100 सेकेंड सोचो: पाकिस्तान का बचाव करने वाले चीन की भारत ने बंद की बोलती

बार-बार आतंकवाद के मसले पर पाकिस्‍तान का बचाव करने वाले चीन को इस बार भारत ने बड़ी कूटनीतिक मात दी है. पुलवामा आतंकी हमले की जिम्‍मेदारी लेने वाले जैश ए मोहम्‍मद के सरगना मसूद अजहर के मामले में न केवल पाकिस्‍तान बल्कि चीन भी अलग-थलग पड़ गया.


नई दिल्‍ली। आतंकवाद के मसले पर दुनिया की हर ताक़त भारत के साथ खड़ी है. चीन के लाख अड़ंगों, कोशिशों के बावजूद संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पास किया गया यानी भारत ने एक तीर से दो निशाने साधे. एक दुनियाभर में पाकिस्तान को धूल चटाई और दूसरा चीन की बोलती बंद कर दी. अपनी वीटो पावर के जरिए हर बार पाकिस्तान को बचाने वाला चीन इस बार कमज़ोर दिखा. आप 100 सेकेंड सुनिए फिर सोचिए कि अब आगे क्या…?

अब किस तरह से भारत-चीन को कूटनीतिक जवाब देगा. आंखें तररेने वाला चीन जो आतंक के आकाओं को पनाह देने वाले पाकिस्तान के साथ खड़ा रहता है, उसे बेनकाब किस तरह से किया जाए. यूं तो चीन अक्सर भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में दिलचस्पी दिखाता है, लेकिन ये दिलचस्पी शांति कायम करने की नहीं बल्कि आतंक के सरपरस्त को बढ़ावा देना है. अब ये देखने वाली बात होगी कि कूटनीतिक तौर पर चीन से भारत कैसे निपटता है.