भारतीय वायुसेना में काम कर रहीं 1,875 महिला अधिकारी : श्रीपद नाइक

रक्षा मंत्रालय (Ministry of Defense) के समर्थन के बाद भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) ने 2016 में ‘फाइटर फ्लाइंग ब्रांच में महिला IAFS अधिकारियों की भर्ती’ योजना शुरू की, जिसके तहत अब तक 10 महिला फाइटर पायलटों (Women Fighter Pilots) की नियुक्ति की गई है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 12:29 am, Sun, 20 September 20

संसद में शनिवार को रक्षा राज्यमंत्री श्रीपद नाइक (Shripad Naik) ने कहा कि भारतीय वायुसेना में महिला अधिकारियों की संख्या 1,875 हो गई है. इनमें से 10 महिला अधिकारी फाइटर पायलट (Fighter Pilots) हैं, जबकि 18 महिला अधिकारी नेविगेटर हैं. भारतीय वायुसेना ने फाइटर पायलट के रूप में महिला अधिकारियों को शामिल करने के लिए रक्षा मंत्रालय को प्रस्ताव दिया था.

मंत्रालय के समर्थन के बाद भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) ने 2016 में ‘फाइटर फ्लाइंग ब्रांच में महिला IAFS अधिकारियों की भर्ती’ योजना शुरू की, जिसके तहत अब तक 10 महिला फाइटर पायलटों की नियुक्ति की गई है. नाइक ने कहा, “महिला फाइटर पायलट को भारतीय वायुसेना में रणनीतिक और संचालन (ऑपरेशनल) जरूरतों के अनुसार तैनात किया जाता है, जिनकी समय-समय पर समीक्षा की जाती है.”

सशस्त्र बलों में बढ़ रहा महिलाओं का प्रतिनिधित्व

वर्तमान में भारतीय वायुसेना की ताकत 1,41,606 है, जिसमें लगभग 12,159 अधिकारी और 1,29,447 एयरमैन शामिल हैं. सरकार सशस्त्र बलों (Armed Forces) में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ावा दे रही है. इस साल की शुरुआत में, सुप्रीम कोर्ट ने भारतीय नौसेना (Indian Navy) में महिला अधिकारियों की सेवा के लिए स्थायी कमीशन की अनुमति दी थी और केंद्र को तीन महीने के भीतर अपने आदेश का पालन करने का निर्देश दिया था.

‘शारीरिक स्थिति के नाम पर कोई भेदभाव नहीं’

सुप्रीम कोर्ट का कहना था कि शारीरिक स्थिति के नाम पर कोई भेदभाव नहीं किया जा सकता है. कोर्ट ने कहा था कि महिलाएं पुरुष अधिकारियों की तरह ही कार्यकुशलता से देश की सेवा कर सकती हैं और इनमें किसी तरह का कोई भेदभाव नहीं किया जाना चाहिए. एक अन्य आदेश में भी कोर्ट ने भारतीय सेना (Indian Army) में लैंगिक असमानता को समाप्त करने का निर्देश दिया था.

TV9 भारतवर्ष पोल: क्रिकेट खेला है तभी आप दे पाएंगे IPL से जुड़े इस सवाल का जवाब