1984 सिख विरोधी दंगे : SIT ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की 186 मामलों की जांच रिपोर्ट

सुप्रीम कोर्ट दो हफ्ते बाद इस पर फैसला लेगा कि इसे सार्वजनिक किया जाए या नहीं साथ ही इसमें कितने मामले हैं जिन्हें फिर से खोला जाए.
Supreme-court

1984 के सिख विरोधी दंगों की जांच कर रहे विशेष जांच दल (SIT) ने 186 मामलों की जांच कर उसकी रिपोर्ट एक सीलबंद लिफाफे में शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में दाखिल कर दी है. इस SIT का गठन सुप्रीम कोर्ट ने ही किया था. सुप्रीम कोर्ट दो हफ्ते बाद इस पर फैसला लेगा कि इसे सार्वजनिक किया जाए या नहीं साथ ही इसमें कितने मामले हैं जिन्हें फिर से खोला जाए.

चीफ जस्टिस एसए बोबड़े की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ के समक्ष जस्टिस ढींगरा के नेतृत्व वाली SIT ने 186 मामलों से जुड़ी सीलबंद रिपोर्ट पेश की. केंद्र ने इस दौरान कहा कि SIT ने अपना काम पूरा कर दिया है और अब उसे भंग कर दिया जाए. याद रहे कि SIT को उन मामलों को जांचने के आदेश दिए गए हैं जिनके मामले में जांच प्रक्रिया का पालन किए बिना बंद कर दिया था. SIT के भंग किए जाने कि स्थिति में CBI फिर से भूमिका में आ जाएगी.

दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल सिख विरोधी दंगों के मामले में नए सिरे से SIT जांच के आदेश दिए थे. इस SIT का गठन पिछले साल फरवरी में किया गया था जिसकी अध्यक्षता दिल्ली हाईकोर्ट के पूर्व जज जस्टिस ढींगरा को दी गई थी. उनकी टीम में IPS अधिकारी राजदीप सिंह और अभिषेक दुलार थे. लगातार जांच के बाद आखिरकार SIT ने अपनी रिपोर्ट बंद लिफाफे में सुप्रीम कोर्ट को सौंप दी है. SIT की इस रिपोर्ट को काफी अहम माना जा रहा है.

ये भी पढ़ें

थोड़ा है थोड़े की जरूरत है… ये तस्वीर शायद हमें यही सिखाती है !

नस्लभेद की शिकार बनी 10 साल की सिख बच्ची, सुनाया आतंकी कहे जाने का दर्द

Related Posts