ट्रोलर को IAS इरा सिंघल ने जमकर सुनाया, दिव्यांग होने का उड़ाया था मजाक

इस व्यक्ति का नाम भूपेश जसवाल है. इरा ने भूपेश के भद्दे कमेंट्स का स्क्रीनशॉट भी अपने फेसबुक पोस्ट में शेयर किया है.
Ira Sinhal Facebook Post, ट्रोलर को IAS इरा सिंघल ने जमकर सुनाया, दिव्यांग होने का उड़ाया था मजाक

नई दिल्ली: साल 2014 की यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (यूपीएससी) टॉपर और केशवपुरम जोन की डिप्टी कमिश्नर इन दिनों सोशल मीडिया पर काफी ट्रोल हो रही हैं. इरा सिंघल ने अपने फेसबुक पेज पर भावुक कर देने वाले एक पोस्ट शेयर किया, जिसमें उन्होंने अपने दिव्यांग होने पर खुलकर बात की और उन्हें ट्रोल करने वालों को करारा जवाब दिया.

यह पोस्ट इरा सिंघल ने उस व्यक्ति के कमेंट के बाद लिखा, जिसने उनके दिव्यांग होने का मजाक उड़ाया था. इस व्यक्ति का नाम भूपेश जसवाल है. इरा ने भूपेश के भद्दे कमेंट्स का स्क्रीनशॉट भी अपने फेसबुक पोस्ट में शेयर किया है.

इरा सिंघल ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा, “जो लोग सोचते हैं कि दिव्यांग लोगों की किसी भी प्रकार की समस्य़ा का सामना नहीं करना पड़ता, क्योंकि दुनिया उनके साथ बहुत ही अच्छी और दयालु होती है. अपने इंस्टाग्राम पोस्ट पर आए कमेंट को यहां शेयर कर रही हूं. यह एक साइबर बुलिंग चेहरा है.”

इसके आगे इरा ने लिखा, “जिसे परेशान नहीं किया जा सकता दुर्भाग्य से उसे परेशान करने की कोशिश हो रही है. यह शायद एक ऐसा व्यक्ति है जो सिविल सर्वेंट बनना चाहता है. यही कारण है कि हमें समावेशी स्कूलों की आवश्यकता है और यही कारण है कि शिक्षा प्रणाली में बदलाव आए ताकि बेहतर इंसान बनाने की तरफ कदम बढ़ाया जाए.”

इरा सिंघल ने यह मुकाम अपनी मेहनत के बल पर हासिल किया है. किसी भी व्यक्ति को कोई अधिकार नहीं है कि वह किसी इंसान के दिव्यांग होने को लेकर उसकी क्षमता पर सवाल खड़ा करे या उसका मजाक उड़ाए. इस प्रकार के लोग अपनी मानसिकता को दर्शाते हैं कि वे कितने गिरे हुए हैं, जो कि एक ऐसे व्यक्ति के दिव्यांग होने का मजाक उड़ाते हैं, जिन्होंने अपने दिव्यांग होने को नजरअंदाज करते हुए, समाज में अपनी एक पहचान बनाई और दुनिया को साबित किया कि वह किसी आम इंसान, जिसके शरीर मेें किसी भी रूप से कमी नहीं है, वह उससे कहीं ज्यादा मेहनती और बेहतर हैं.

 

ये भी पढ़ें-    NIA ने गिरफ्तार किए 14 संदिग्ध, तमिलनाडु में आतंकी संगठन बनाने के लिए जुटा रहे थे फंड

हाथों में खाली बर्तन और सिर्फ एक सवाल- क्या हम मर जाएं?

Related Posts