सड़क हादसे में खत्म हुआ पूरा परिवार, सिर्फ तीन साल की मासूम जिंदा बची, घर में तलाश रही मां

पुलिस ने बताया की शुरुआती जांच में पाया गया है कि गाड़ी अपना नियंत्रण खो कर डिवाइडर से जा टकराई और हवा में उछलने के बाद एक तरफ से सड़क पर जा गिरी.

सोमवार को यमुना एक्सप्रेस वे पर एक भीषण सड़क हादसा हुआ जिसमें एक कार पलट गई और उसमें मौजूद पांच में से चार लोगों की मौत हो गई. जिस समय यह हादसा हुआ उस समय गाड़ी में तीन साल की नन्ही पीहू भी थी. जो की इस दुर्घटना में बच गई.

दरअसल, पीहू अपने माता-पिता के साथ दिल्ली के गोविंदपुरा इलाके में रहती थी. यहां से पीहू आरती जैन (माता), मनीष जैन (पिता) और अभिषेक (चाचा) के साथ टोयोटा ईटीओस कार में अपने नानिहाल फिरोजाबाद के लिए निकली. वहां उसके मामा का एक्सिडेंट हो गया था जिसे देखने के लिए वह जा रहे थे. मगर उसे क्या पता था कि आज उस नन्ही जान की जिंदगी पूरी तरह बदल जाएगी.

जैसे ही उनकी कार एक्सप्रेस वे (Express Way) के बलदेव थाना क्षेत्र में मंगलीगढ़ी पर पहुंची तो कार चला रहे ड्राइवर रविंद्र का कार पर से नियंत्रण खो बैठा और गाड़ी पलट गई, इस हादसे में पीहू के माता-पिता, चाचा और ड्राइवर की मौत हो गई. वहीं पीहू इस हादसे में बच गई. क्योंकि वो अपने चाचा की छाती से लग कर सो रही थी. जैसे ही कार ने नियंत्रण खोया तो गाड़ी का एक तरफ का दरवाजा खुल गया और पीहू उछल कर बाहर जा गिरी.

अब पीहू अपने दादा-दादी के साथ रह रही है. वो पिछले तीन दिन से घर में अपनी मम्मी को ढूंढ रही है, मगर उस मासूम को क्या पता है कि उसके सर ममता का छाया हट चुका है.

पुलिस ने बताया की शुरुआती जांच में पाया गया है कि गाड़ी अपना नियंत्रण खो कर डिवाइडर से जा टकराई और हवा में उछलने के बाद एक तरफ से सड़क पर जा गिरी. हादसे में आरती,मनीष और रविंद्र के शव बुरी तरह क्षत-विक्षत हो गए. वहीं अभिषेक गाड़ी से बाहर जाकर सड़क पर गिरा और उसका सर सड़क पर लगा और वहीं मौत हो गई.

ये भी पढ़ें : दिल्ली: मुंडका इलाके के एक गोदाम में लगी भीषण आग, दमकल की 20 गाड़ियां मौके पर

Related Posts