रोजाना 500 यात्रियों को अमरनाथ यात्रा की इजाजत, आज से बाबा बर्फानी की आरती का Live टेलीकास्ट

शनिवार को जम्मू एंड कश्मीर (Jammu and Kashmir) प्रशासन ने कहा कि सड़क मार्ग से 3,880 मीटर ऊंचाई पर स्थित पवित्र अमरनाथ (Amarnath) गुफा जाने के लिए रोजाना सिर्फ 500 यात्रियों को अनुमति मिलेगी.

जम्मू एंड कश्मीर (Jammu and Kashmir) में अमरनाथ यात्रा (Amarnath Yatra 2020) को शुरू करने के लिए सुप्रीम कोर्ट (Supreme) द्वारा गठित उप-समिति की एक बैठक हुई थी. इस बैठक की अध्यक्षता मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रह्मण्यम (BVR Subramaniam) ने की थी. बैठक के बाद फैसला लिया गया कि कोरोनावायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के चलते इस साल अमरनाथ यात्रा सीमित तरीके से की जाएगी. आज बाबा बर्फानी की आरती हुई, जिसका लाइव टेलीकास्ट हुआ. अमरनाथ आरती का लाइव टेलीकास्ट सुबह-शाम दूरदर्शन पर होगा.

21 जुलाई से शुरू हो सकती है यात्रा

शनिवार को जम्मू एंड कश्मीर प्रशासन ने कहा कि सड़क मार्ग से 3,880 मीटर ऊंचाई पर स्थित पवित्र अमरनाथ गुफा जाने के लिए रोजाना सिर्फ 500 यात्रियों को अनुमति मिलेगी. 21 जुलाई से यात्रा शुरू हो सकती है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

अमरनाथ तीर्थयात्रियों पर भी केंद्र शासित क्षेत्र में प्रवेश के दौरान की जाने वाली जांच की मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) लागू होगी. अमरनाथ यात्रा 2020 की तैयारियों की समीक्षा करते हुए मुख्य सचिव ने कहा कि कोविड-19 महामारी के मद्देनजर आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत गठित राज्य कार्यकारी समिति ने मानक संचालन प्रोटोकॉल (SoPs) जारी किया है, जिसमें सभी व्यक्तियों के लिए 100 प्रतिशत RTPCR टेस्ट भी शामिल है.

यात्रा से पहले सभी का होगा कोरोना टेस्ट

उन्होंने कहा कि जम्मू एंड कश्मीर में प्रवेश करने वाले सभी लोगों का सैंपल लिया जाएगा, टेस्ट किया जाएगा और उन्हें आगे बढ़ने की अनुमति तभी दी जाएगी जब तक कि उनका टेस्ट नेगेटिव नहीं आता. मुख्य सचिव ने आगे कहा कि यात्रियों के लिए जो पहले उपयोग की जाने वाली कैंपिंग सुविधाएं थी उन्हें अपने क्वारंटीन सेटर्स के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है.

सुब्रह्मण्यम ने जोर देते हुए कहा कि केंद्र शासित प्रदेश में प्रवेश करने वाले व्यक्तियों के परीक्षण के साथ-साथ एसओपी यात्रियों पर भी लागू होगा. इसके अलावा सोशल डिस्टेंसिंग नॉर्म्स पर भी पूरा ध्यान दिया जाएगा. दो रास्तों अनंतनाग के पहलगाम और गंदेरबल के बालटाल से 42 दिनों तक चलने वाली यह यात्रा 23 जून से शुरू होने वाली थी. लेकिन महामारी की वजह से इसमें देरी हुई है और साथ ही अब यात्रा केवल 15 दिन की ही होगी.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts