Nizamuddin Markaz में शामिल हुए 59 मलेशियाई नागरिकों को साकेत कोर्ट से मिली राहत

कोर्ट (Saket Court) ने इन जमातियों को पहले ही 10 हजार रुपए के निजी मुचलके पर जमानत दे दी थी. आरोपियों ने कोर्ट से प्ली बार्गेनिंग के तहत सुनवाई का अनुरोध किया था, जिसे कोर्ट ने स्विकार लिया था.
Malaysian citizens who joined Nizamuddin Markaz, Nizamuddin Markaz में शामिल हुए 59 मलेशियाई नागरिकों को साकेत कोर्ट से मिली राहत

दिल्ली की साकेत कोर्ट से गुरूवार को कोरोना महामारी (Coronavirus) के चलते लागू लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान निजामुद्दीन मरकज (Nizamuddin Markaz) में धार्मिक कार्यक्रम में शामिल हुए 59 मलेशियाई जमातियों को बड़ी राहत मिली.

जमातियों ने कोर्ट के सामने मानी गलती

कोर्ट ने इन जमातियों को पहले ही 10 हजार रुपए के निजी मुचलके पर जमानत दे दी थी. आरोपियों ने कोर्ट से प्ली बार्गेनिंग के तहत सुनवाई का अनुरोध किया था, जिसे कोर्ट ने स्विकार लिया था और सुनवाई के दौरान इन जमातियों (Tablighi Jamaat) ने साकेत कोर्ट के सामने अपनी गलती मान ली थी, जिसके बाद कोर्ट ने थोड़ी नरमी दिखाते हुए सभी पर 7-7 हज़ार रुपये का जुर्माना लगाते हुए वीजा नियमों के उल्लंघन और महामारी एक्ट के उल्लंघन के मामले में बरी कर दिया.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) इनके खिलाफ पाबंदी के बावजूद मरकज़ की जमात में शामिल होने के मामले में चार्जशीट कर चुकी थी.

122 मलेशियाई नागरिक को मिली जमाती

साकेत कोर्ट (Saket Court) ने मंगलवार को 122 मलेशियाई नागरिक को जमानत दी थी, जिनमें से गुरुवार को वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिए 59 मलेशियाई जमाती कोर्ट में पेश हुए बाकी के 63 शुक्रवार को कोर्ट के सामने पेश होंगे.

चार्जशीट में लगाए आरोपों पर कोर्ट ने अभी नहीं लिया संज्ञान

हालांकि IPC की जिन धाराओं के तहत चार्जशीट में आरोप लगाये थे, उन पर कोर्ट ने अभी तक संज्ञान नहीं लिया है. इस बाबत कोर्ट ने मामले के जांच अधिकारी से अरोपों पर सवाल पूछे हैं. फिलहाल विशेष कानूनों वीजा नियम का उल्लंघन और महामारी एक्ट का उल्लंघन के तहत जो आरोप लगाए गए थे, उनमें कोर्ट ने इन 59 मलेशियाई जमातियों को बरी कर दिया.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts