CAA विरोधी हिंसा में 6 लोगों की मौत और कई घायल तो क्यों नहीं मिली कोई गोली

डॉक्टरों को हैरानी इस बात की हुई कि लाए गए लोग बुलेट से घायल तो थे लेकिन किसी के भी शरीर से एक भी बुलेट नहीं पाई गई.
Men bullet injuries Ferozabad CAA NRC, CAA विरोधी हिंसा में 6 लोगों की मौत और कई घायल तो क्यों नहीं मिली कोई गोली

बंदूक से निकली गोली अगर शरीर को छू जाए तो या जान जाती है या बुरी तरह घायल कर देती है. हैरानी तब होती है जब एक साथ 6 मामलों में जान गई हो और गोली ना मिली हो. चूड़ियों के शहर फिरोजाबाद से ऐसा ही अजीबो गरीब मामला सामने आया है.

उत्तर प्रदेश में नए नागरिकता कानून के खिलाफ हाल ही में हुए विरोध प्रदर्शनों का फिरोज़ाबाद में भी व्यापक असर दिखा था. 20 दिसंबर को हुई हिंसा को काबू करने के लिए की गई पुलिस की कार्रवाई में लगभग 19 लोगों की जान गई थी. इसके अलावा 75 से ज्यादा घायल हो गए थे. घायल होने वाले लोगों में 18 पुलिसकर्मी भी शामिल थे.

घायलों में जिनको भी अस्पताल लाया गया था उन सबको को बंदूक से निकली गोली लगी थी. डॉक्टरों को हैरानी इस बात की हुई कि लाए गए लोग बुलेट से घायल तो थे लेकिन किसी के भी शरीर से एक भी बुलेट नहीं पाई गई. तीन घायलों को दिल्ली के एम्स और सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया जबकि एक घायल को स्पाइनल इंज्यूरी की वजह से अपोलो में भर्ती कराया गया है.

फिरोजाबाद पुलिस ने कहा कि उन्होंने एक भी गोली नहीं चलाई. पुलिस का कहना है कि उन्होंने केस दर्ज कर लिया है और तफ्तीश कर रही है.

ये भी पढ़ें – 

कोटा में मासूमों की मौत पर सचिन पायलट ने अपनी ही सरकार को कोसा, कहा- हमें जवाबदेही तय करनी होगी

पहाड़ों में भारी बर्फबारी, दिल्ली में बारिश के बाद

Related Posts