शादी के 54 साल बाद भरी इस मां की कोख, पैदा हुए जुड़वा और बन गया वर्ल्‍ड रिकॉर्ड

शादी के कुछ साल बाद वे एक बच्चे की उम्मीद करने लगे, लेकिन उनकी यह उम्मीद धरी की धरी रह गई.

एक महिला के लिए मां बनने का अहसास बहुत ही खास होता है. मां बनने के लिए एक महिला कितनी पीड़ा से गुजरती है उसका अंदाजा उसके सिवा और कोई नहीं लगा सकता. इस पीड़ा को सहते हुए भी महिला अपने बच्चे को जन्म देती है और मां बनने का सुख प्राप्त करती है. वहीं कई ऐसी महिलाएं भी हैं, जो कि किसी न किसी बीमारी के कारण मां नहीं बन पाती. उनमें से ही एक हैं गुंटूर की रहने वाली मंगयाम्मा .

मंगयाम्मा को शादी के 54 साल के बाद मां बनने का सुख हासिल हुआ है, जिसके बाद वे काफी खुश हैं. 74 साल की मंगयाम्मा ने गुरुवार को दो जुड़वा बच्चों को जन्म दिया है, जिसके बाद यह एक वर्ल्ड रिकॉर्ड बन गया है.

दरअसल ईस्ट गोदावरी जिले के नेलापार्टीपाडू से ताल्लुक रखने वाली मंगयाम्मा की शादी 22 मार्च, 1962 में येरामत्ती राजा राव से हुई थी. शादी के कुछ साल बाद वे एक बच्चे की उम्मीद करने लगे, लेकिन उनकी यह उम्मीद धरी की धरी रह गई.

मंगयाम्मा को बच्चे नहीं हो रहा थे. इससे वे काफी परेशानी रहती थीं. जब काफी सालों तक प्रयास करने के बाद भी उन्हें बच्चे नहीं हुए तो उन्होंने आस ही छोड़ दी. हाल ही में येरामत्ती राजा राव के पड़ोस में रहने वाली 55 वर्षीय एक महिला आईवीएफ के जरिए प्रेग्नेंट हुई थी. मंगयाम्मा को उस महिला से प्रेरणा मिली.

उन्होंने गुंटूर शहर के अहल्या नर्सिंग होम में संपर्क किया और आईवीएफ एक्सपर्ट डॉ. सानक्कायला उमाशंकर से मुलाकात की. डॉ. ने मंगयाम्मा के पति राव का स्पर्म लिया और आईवीएफ के लिए इस्तेमाल किया.

डॉक्टर्स की कोशिश रंग लाई और मंगयाम्मा प्रेग्नेंट हो गईं. तबसे लेकर बच्चे होने तक मंगयाम्मा डॉक्टर्स की निगरानी में रहीं. मंगयाम्मा की डिलीवरी ऑपरेशन से हुई और उन्होंने दो जुड़वा बच्चियों को जन्म दिया. वहीं इस मामले पर डॉक्टर उमाशंकर ने कहा, “यह एक और वर्ल्ड रिकॉर्ड है. मंगयाम्मा और उनके पति इससे बहुत खुश हैं.”

 

ये भी पढ़ें-   ईस्‍टर्न इकॉनमिक फोरम में बोले पीएम मोदी- भारत और रूस का रिश्‍ता बहुत पुराना

INX मीडिया केस में पी चिदंबरम को सुप्रीम कोर्ट से झटका, अग्रिम जमानत याचिका खारिज