नागरिकता का प्रमाण नहीं है आधार और वोटर कार्ड, CAA पर बोले पश्चिम बंगाल BJP अध्यक्ष

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि जो लोग बांग्लादेश से आए हैं, उन्हें घोषणा पत्र के अलावा किसी भी दस्तावेज को दिखाने की जरूरत नहीं होगी.

पश्चिम बंगाल भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने शुक्रवार को कहा कि आधार और मतदाता पहचान पत्र नागरिकता का प्रमाण नहीं हैं, और जो भी बांग्लादेश से आए हैं, उन्हें नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (सीएए) के तहत नागरिकता के लिए आवेदन करना होगा. बता दें कि सीएए के समर्थन में हावड़ा में एक रैली को संबोधित करते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि आधार और मतदाता पहचान पत्र नागरिकता का प्रमाण नहीं है. दीदीमोनी (सीएम ममता बनर्जी) आपको गुमराह कर रही हैं.

इस मौके पर उन्होंने कहा कि जो लोग बांग्लादेश से आए हैं, उन्हें घोषणा पत्र के अलावा किसी भी दस्तावेज को दिखाने की जरूरत नहीं होगी. घोषणा पत्र में उन्हें बताना होगा कि वे कब आए थे और बांग्लादेश में कहां रहते थे. भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि विपक्ष कह रहा है कि आपके माता-पिता के जन्म की तारीख आवश्यक है. वे आपको डराने के लिए ऐसा कह रहे हैं. यदि वे आते हैं, तो उन्हें अपने माता-पिता की असली पहचान का पता लगाने के लिए कहें.

बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन (NRC) के विरोध में प्रदर्शन करने वालों पर दिलीप घोष लगातार निशाने पर ले रहे हैं. हाल ही में उन्होंने विरोध में प्रदर्शन करने वालों को लेकर एक विवादित बयान दिया था. दिलीप घोष ने कहा- ‘यूपी, असम और कर्नाटक में हमारी सरकार ने इन लोगों को कुत्तों की तरह गोली मारी है.’

ये भी पढ़ें –

CAA Protest: दिल्ली पुलिस की शाहीन बाग प्रदर्शनकारियों से अपील, जनहित में खाली करें रोड

बीजेपी ने नई दिल्ली सीट पर नहीं खोले पत्ते, AAP ने चुटकी लेकर पूछा- केजरीवाल के सामने कौन?