‘AAP’ नेता राघव चड्ढा ने की मुख्यमंत्री योगी पर अपमानजनक टिप्पणी, दर्ज हुई FIR

AAP विधायक ट्वीट करते हुए कहा था कि योगी आदित्यनाथ दिल्ली से वापिस लौट रहे लोगों से कह रहे हैं कि, वे दिल्ली गए ही क्यों थे? हालांकि आरोपी ने मामले को भांपते ही कुछ देर बाद ही अपना ट्वीट डिलीट कर दिया था.
AAP leader insulted CM Yogi, ‘AAP’ नेता राघव चड्ढा ने की मुख्यमंत्री योगी पर अपमानजनक टिप्पणी, दर्ज हुई FIR

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Aditya Nath) के ऊपर कीचड़ उछालने के मामले में आम आदमी पार्टी (AAP) के विधायक और पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता राघव चड्ढा (Raghav Chadha) के खिलाफ FIR दर्ज हुई है. दिल्ली से सटे नोएडा सेक्टर-20 कोतवाली में बीती देर रात (शनिवार-रविवार) एक वकील ने FIR दर्ज कराई है. FIR दर्ज कराए जाने की पुष्टि रविवार सुबह खुद शिकायतकर्ता सुप्रीम कोर्ट के वकील प्रशांत उमराव (Prashant Umrao) ने की.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

प्रशांत उमराव मूलत: थाना मोर पटेलनगर कोरा, जहानाबाद, फतेहपुर, उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं. प्रशांत राव फिलहाल पूर्वी दिल्ली जिले के कड़कड़डूमा (Karkardum) इलाके में रहते हैं. यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ FIR नंबर-0292, ‘IPC की धारा 505(2) और धारा 500 और IT-Act की धारा-66 के तहत दर्ज है.

प्रशांत उमराव के मुताबिक, ‘धारा 505 (2) गैर-जमानती है. इसमें 3 साल तक की सजा का प्रावधान है. जबकि धारा 500 मानहानि की है. यह जमानती तो है लेकिन अगर अपराध सिद्ध हो गया तो इसमें भी दो साल की कैद का प्रावधान है. जबकि IT Act की धारा 66 के तहत तीन साल की सजा हो सकती है.’

FIR और शिकायतकर्ता के मुताबिक, ‘आम आदमी पार्टी के राजेंद्र नगर (दिल्ली) विधानसभा सीट से हाल ही में विधायक निर्वाचित हुए राघव चड्ढा पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता भी हैं. राघव ने रविवार को रात के वक्त अपने ट्विटर हैंडल पर पोस्ट डाली थी. जिसमें उन्होंने सीधे-सीधे यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का नाम लेकर उनकी मानहानि की कोशिश की थी.’

राघव चड्ढा ने डिलीट किया ट्वीट

शिकायतकर्ता वकील के मुताबिक, ‘आरोपी ‘AAP’ MLA ने अपने ट्विटर हैंडल पर आरोप लगाया था कि, योगी दिल्ली से वापिस लौट रहे लोगों से कह रहे हैं कि, वे दिल्ली गए ही क्यों थे? योगी दिल्ली से वापिस आ रहे लोगों को दौड़ा दौड़ाकर पिटवा रहे हैं.’ शिकायतकर्ता ने राघव चड्ढा के इस ट्वीट का स्क्रीनशॉट लिया और रविवार तड़के करीब ढाई बजे कराई गई FIR में आरोपी के उसी ट्वीट को आधार बनाया.

हालांकि राघव चड्ढा ने मामले को भांपते ही कुछ देर बाद अपना ट्वीट डिलीट कर दिया था. लेकिन तब तक सैकड़ों लोग इस ट्वीट को कैप्चर कर चुके थे. इन्हीं में एक थे सुप्रीम कोर्ट (Superme Court) के वकील और राघव चड्ढा के खिलाफ नोएडा सेक्टर 20 कोतवाली में मामला दर्ज कराने वाले शिकायतकर्ता प्रशांत उमराव.

चड्ढा के खिलाफ गाजियाबाद में भी FIR

प्रशांत उमराव के सथ बीजेपी नेता और वरिष्ठ वकील अश्विनी उपाध्याय ने भी राघव चड्ढा के खिला गाजियाबाद में FIR दर्ज कराई है. उपाध्याय ने अपनी शिकायत में कहा है कि राघव चड्ढा के खिलाफ लोगों को भड़काने और भारतीय दंड संहिता की धारा 124A के तहत मामला दर्ज किया जाए.

अश्विनी उपाध्याय का कहना है कि राघव चड्ढा के ट्वीट के बाद गरीब मजदूर भयभीत हो गए और अफरा तफरी मच गई. ऐसे में चड्ढा ने सफेद झूठ के सहारे संवैधानिक रूप से चुनी गई सरकार के खिलाफ जानबूझकर नफरत और घृणा फैलाई है जो भारतीय दंड संहिता की धारा 124A के अंतर्गत एक गंभीर अपराध है.

बीजेपी नेता ने आम आदमी पार्टी नेता राघव चड्ढा के खिलाफ IPC की धारा 153A, 295A, 499-500 और 505(2) के तहत भी कार्रवाई करने की अपील की है.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts