महीनों बाद नवजोत सिंह सिद्धू ने तोड़ी चुप्पी, कहा- पार्टी हाईकमान ने दिल्ली बुलाकर धैर्य से सुनी मेरी बात

अपने बयान में सिद्धू ने कहा, "कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी 25 फरवरी को अपने आवास पर 40 मिनट के लिए मुझसे मिलीं. इसके अगले दिन 10 जनपथ पर कांग्रेस अध्यक्ष और महासचिव ने एक घंटे तक मुझसे मुलाकात की.
Navjot Singh Sidhu broke the silence, महीनों बाद नवजोत सिंह सिद्धू ने तोड़ी चुप्पी, कहा- पार्टी हाईकमान ने दिल्ली बुलाकर धैर्य से सुनी मेरी बात

पिछले कुछ महीनों से राजनीतिक बयानों से दूर चल रहे कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने गुरुवार को अपनी चुप्पी तोड़ते हुए एक बयान जारी किया. बयान में सिद्धू ने कहा, ‘कांग्रेस पार्टी हाईकमान ने मुझे दिल्ली तलब किया.’ इस बयान में उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी से हुई मुलाकात की जानकारी भी दी.

अपने बयान में सिद्धू ने कहा, “कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी 25 फरवरी को अपने आवास पर 40 मिनट के लिए मुझसे मिलीं. इसके अगले दिन 10 जनपथ पर कांग्रेस अध्यक्ष और महासचिव ने एक घंटे तक मुझसे मुलाकात की.

‘धैर्य से सुनी गई मेरे बात’

कांग्रेस नेता सिद्धू ने कहा कि इस दौरान दोनों नेताओं ने बहुत धैर्य के साथ मेरी बात सुनी. मैंने उन्हें पंजाब के मौजूदा हालात से अवगत कराया और पंजाब के पुनरुत्थान और आत्मनिर्भर बनाने का एक रोडमैप उनके साथ साझा किया, जिसपर चलकर हम पुनः पंजाब का गौरव स्थापित कर सकते हैं.

उन्होंने कहा कि यह वही रोड मैप है जिसको मैंने कैबिनेट में मंत्री के तौर पर कार्य करते हुए और अपने सार्वजनिक जीवन में, पिछले कई वर्षों से दृढ़ विश्वास के साथ लोगो के सामने रखा है.

मालूम हो कि पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से मनमुटाव के बाद नवजोत सिंह सिद्धू ने जुलाई में राज्य कैबिनेट मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था. अपने बयानों से चर्चा में बने रहने वाले सिद्धू ने मंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद से ही चुप्पी साध रखी थी.

ये भी पढ़ें:

केजरीवाल के करीबी संजीव कुमार ने थामा कांग्रेस का दामन, बोले- दिल्ली हिंसा पर उनकी चुप्पी डेंजरस

Related Posts