जेल जाना सबसे कठिन और डरावना…जेसिका लाल के परिवार को जो दुख पहुंचा उसके लिए Sorry- मनु शर्मा

मनु शर्मा (Manu Sharma) ने कहा कि जेल जाना सबसे कठिन और डरावनी चीजों में से एक है जो किसी को भी हो सकती है. आप तिहाड़ में कई कठिनाइयों का सामना करते हैं, लेकिन समय के साथ आप उनके साथ रहना सीख जाते हैं.
After release from jail Manu Sharma said I am Sorry, जेल जाना सबसे कठिन और डरावना…जेसिका लाल के परिवार को जो दुख पहुंचा उसके लिए Sorry- मनु शर्मा

साल 1999 के जेसिका लाल हत्याकांड (Jessica Lal Murder Case) के दोषी मनु शर्मा (Manu Sharma) ने कहा, “जेसिका लाल के परिवार को मेरी तरफ से जो भी दुख पहुंचा मुझे उसके लिए खेद है.” मनु शर्मा ने तिहाड़ जेल (Tihar Jail) से रिहा होने के बाद यह बात कही है.

‘जेल जाना सबसे कठिन और डरावन’

दरअसल हिंदुस्तान टाइम्स को दिए एक इंटरव्यू में मनु शर्मा ने कहा जेल जाना सबसे कठिन और डरावनी चीजों में से एक है जो किसी को भी हो सकती है. अपने जेल के दिनों को याद करते हुए मनु शर्मा ने कहा, “वहां दिन का सबसे कठिन काम शायद शौचालय का उपयोग करना था, क्योंकि 500 ​​से अधिक कैदियों के लिए सिर्फ पांच शौचालय ही हैं. पानी की एक ही बाल्टी होती थी. आप तिहाड़ में कई कठिनाइयों का सामना करते हैं, लेकिन समय के साथ आप उनके साथ रहना सीख जाते हैं.”

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

‘मेरी तरफ से दिए गए दुख के लिए माफी’

इसी दौरान यह पूछे जाने पर कि “जेसिका लाल की बहन सबरीना ने पहले तिहाड़ अधिकारियों को लिखा था कि उस रात जो हुआ था, उसके लिए उसने आपको माफ कर दिया था” इस पर मनु ने कहा, “सबरीना और उनके परिवार के प्रति मेरी कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए मेरे पास कोई शब्द नहीं हैं. उन्हें और उनके परिवार को मेरी तरफ से जो भी दुख पहुंचा मुझे उसके लिए खेद है. मैं उनके इस आचरण के लिए सदा आभारी हूं.”

अच्छे आचरण के चलते मिली रिहाई

मालूम हो कि दिल्ली की तिहाड़ जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे सिद्धार्थ शर्मा उर्फ मनु शर्मा को रिहा कर दिया गया है. दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने ये फैसला लिया है. सजा समीक्षा बोर्ड (SRB) की बैठक में मनु शर्मा की समय पूर्व रिहाई की सिफारिश किए जाने के बाद उपराज्यपाल द्वारा ये फैसला लिया गया.

हरियाणा के पूर्व मंत्री विनोद शर्मा के बेटे मनु शर्मा को दिसंबर 2006 में दिल्ली हाई कोर्ट ने 1999 में जेसिका लाल की हत्या के लिए उम्र कैद की सजा सुनाई थी. पिछले 2 साल से मनु शर्मा तिहाड़ में ओपन जेल में था, जहां सुबह वो जेल से बाहर होता था और शाम होने से पहले वापस जेल आना होता था. 2017 में भी सेंटेंस रिव्यु बोर्ड के सामने याचिका गई थी, जिसे उस वक्त निरस्त कर दिया गया था.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts