जगन्‍नाथ रथयात्रा में हिस्‍सा लेकर मौलानाओं के निशाने पर आईं TMC सांसद नुसरत जहां

इस्कॉन कोलकाता के जगन्नाथ रथयात्रा में विशेष आमंत्रण पर नुसरत ने अपने पति निखिल जैन के साथ रथयात्रा में भाग लिया था.

नई दिल्ली: तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) सांसद और बंगाली फिल्मों की अभिनेत्री नुसरत जहां इन दिनों मौलानाओं के निशाने पर हैं. सिंदूर लगाने और मंगलसूत्र पहनने को लेकर उलेमाओं के निशाने पर आईं नुसरत जहां अब भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा में भाग लेने पर एक बार फिर चर्चाओं में हैं.

इस्कॉन कोलकाता के जगन्नाथ रथयात्रा में विशेष आमंत्रण पर नुसरत ने अपने पति निखिल जैन के साथ रथयात्रा में भाग लिया. इस पर फतवा ऑनलाइन के प्रभारी मुफ्ती अरशद फारूकी ने कहा कि मुसलमान किसी दूसरे धर्म की निशानी या गतिविधियों में भाग नहीं ले सकता है.

मजलिस इत्तेहाद-ए-मिल्लत के प्रदेशाध्यक्ष मुफ्ती अहमद गौड़ ने कहा, “नुसरत जहां अगर यह इकरार करें कि उन्होंने मुस्लिम धर्म छोड़ दिया है, तो फिर वह कुछ भी करने के लिए स्वतंत्र हैं, लेकिन अगर वे मुसलमान हैं तो मुस्लिम धर्म के अनुसार जिंदगी गुजारें और इस्लाम मजहब के हिसाब से इबादत करें. यदि वे किसी दूसरी तरह से इबादत करती है, तो वे गुनहगार हैं.”

वहीं जमीयत दावतुल मुसलिमीन के संरक्षक मौलाना कारी इसहाक गोरा ने कहा कि शरीयत के अनुसार, इस्लाम में रहते हुए मुसलमान केवल अल्लाह की इबादत कर सकता है.

इससे पहले भी देवबंद के धर्मगुरुओं ने तृणमूल कांग्रेस की सांसद नुसरत जहां के खिलाफ साड़ी, सिंदूर और मंगलसूत्र पहनकर संसद में शपथ लेने पर फतवा जारी किया गया था. देवबंद के धर्मगुरुओं का कहना था कि मुस्लिम लड़कियों को सिर्फ मुस्लिम लड़कों से ही निकाह करना चाहिए.

मुस्लिम धर्मगुरु असद वसमी ने कहा था, “जांच के बाद पता चला कि नुसरत ने जैन धर्म के युवक से शादी की है. इस्लाम कहता है कि मुस्लिम की शादी मुस्लिम से होनी चाहिए.”

नुसरत ने 19 जून को कारोबारी निखिल जैन से तुर्की में शादी की थी. वह पश्चिम बंगाल के बशीरहाट से सांसद हैं. नुसरत ने भारतीय जनता पार्टी के उम्मीवार को 3.5 लाख वोटों हराकर जीत हासिल कर पहली बार संसद पहुंची.

 

ये भी पढ़ें-    विकीपीडिया की तर्ज पर ‘गांधीपीडिया’ लेकर आएगी मोदी सरकार, पढ़ें क्‍या है प्‍लान

रेल-रोड-एयरपोर्ट कनेक्टिविटी बढ़ाने पर जोर, गंगा के रास्ते चार गुना बढ़ जाएगी आवाजाही