कोरोना संकट के बीच 6 महीने के बाद जम्मू में खुले स्कूल, माता-पिता की मंजूरी जरूरी

जम्मू में स्कूल (School) परिसरों में दो गज की दूरी सुनिश्चित करने लिए गोले बनाए गए है तो वहीं बच्चों को क्लास में सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) का पालन करने को कहा गया है.

प्रतीकात्मक फोटो

कोरोना (Corona) के कहर के बीच अनलॉक (Unlock) के माध्यम से देश को एक बार फिर पटरी पर लाने की कवायद चल रही है. धीरे-धीरे सभी सुविधाएं बहाल की जा रही हैं. आज से जम्मू कश्मीर में 9वीं से 12वीं तक के छात्र अपने माता-पिता से लिखित सहमति मिलने के बाद स्कूल आ सकेंगे.

जम्मू में स्कूल खोलने को लेकर सरकार की तरफ से एसओपी (SOP) फॉलो करने का निर्देश दिया गया है. तय प्रोटोकल के तहत सभी स्कूल परिसरों में सैनिटाइजेशन (Sanitization) समेत कोरोना से बचने के अन्य उपाय किए गए हैं. पढ़ाई संबंधित संशय को दूर करने के लिए क्लास 9वीं से 12 वीं तक के छात्रों के लिए स्कूल खोले गए है.

जम्मू में स्कूल खुलने से छात्रों और अपने स्टाफ को कोरोना से बचाने के लिए संबंधित स्कूल प्रशासन ने कमर कस ली है. स्कूल परिसरों में दो गज की दूरी सुनिश्चित करने लिए गोले बनाए गए है तो वहीं बच्चों को क्लास में सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) का पालन करने को कहा गया है.

इसके साथ ही स्कूल परिसरों में सैनिटाइजेशन मशीनें भी लगाई गई है. वहीं, स्कूल प्रशासन ने अपने स्टाफ को स्टाफरूम में न बैठने की हिदायत दी है. स्कूल आ रहे हर एक छात्र के लिए मास्क (Mask) पहनना और सैनिटाजर (Santizer) साथ लाना अनिवार्य कर दिया है.

Related Posts