‘इस पर कोई नहीं बोलता’, अब किस मुद्दे को लेकर केंद्र सरकार पर आगबबूला हुई शिवसेना?

नागरिकता संशोधन बिल राज्यसभा में पास हो गया लेकिन शिवसेना ने वोटिंग से दूरी बना ली थी. वहीं अब शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के जरिए केंद्र सरकार पर निशाना साधा है.

लंबी बहस के बाद बुधवार को राज्यसभा में नागरिकता संशोधन बिल (Citizenship Amendment Bill) पास हो गया. इस बिल के पक्ष में 125 वोट और विरोध में 99 वोट पड़े. वहीं शिवसेना (Shivsena) ने वोटिंग में हिस्सा नहीं लिया और सदन से वॉकआउट किया.

नागरिकता बिल पर राजनीति अभी भी गर्म है. गुरुवार को शिवसेना (Shivsena) ने अपने मुखपत्र सामना के जरिए केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. सामना ने पाकिस्तान (Pakistan) की ओर से होने वाली घुसपैठ (Infiltration) को लेकर सरकार पर हमला बोला है.

”नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ का प्रयास किया”

सामना में लिखा, ”नागरिकता के मुद्दे पर संसद और संसद के बाहर बीते तीन-चार दिनों से कोहराम मचा है. वहीं पाकिस्तान (Pakistan) से होनेवाली घुसपैठ (Infiltration) में बढ़ोत्तरी की खबरों को सभी ने नजरअंदाज कर दिया है.”

”अनुच्छेद-370 रद्द करने के बाद से पाकिस्तान (Pakistan) ने करीब 44 बार प्रत्यक्ष नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ का प्रयास किया. सरहद के विभिन्न हिस्सों में हुई घुसपैठ (Infiltration) के इन मामलों में लगभग 59 पाकिस्तानी आतंकियों ने हिंदुस्थान में प्रवेश किया.”

”पाकिस्तान का दिमाग ठिकाने पर नहीं आया”

सामना में लिखा, ”2005 से 2019 के बीच 14 वर्षों में सुरक्षा बल के जवानों ने घुसपैठ (Infiltration) का प्रयास करनेवाले 42 आतंकियों को पकड़ा तथा 2253 घुसपैठियों को पुन: पाकिस्तान (Pakistan) में भागने पर मजबूर किया. इन 14 वर्षों में लगभग 1110 आतंकियों का हमारे जवानों ने खात्मा किया.”

”अनुच्छेद-370 रद्द करने के बाद भी पाकिस्तान  का दिमाग ठिकाने पर नहीं आया है तथा सीमा पर कश्मीर घाटी में आतंकियों की घुसपैठ (Infiltration) कराने का पाकिस्तान (Pakistan) का प्रयास अभी भी रुका नहीं है.”

”इस पर कोई भी बोलता नहीं”

सामना में लिखा, ”पाकिस्तानी सेना (Pakistan Army) की ओर से हिंदुस्थान में आतंकियों की घुसपैठ (Infiltration) कराने का प्रयास दिन-प्रतिदिन बढ़ रहा है. यही बीते 5 वर्षों के आंकड़े बयान करते हैं. शस्त्र संधि करार को ठेंगा दिखाकर पाकिस्तान (Pakistan) रोज ही सीमा पर गोलीबारी करके आतंकियों की घुसपैठ कराता है. इस पर कोई भी बोलता नहीं.”

”निर्वासितों को नागरिकता देने के लिए उन्माद का वातावरण निर्माण किया जा रहा है. इसी दौरान पाकिस्तान (Pakistan) की ओर से बढ़ती घुसपैठ (Infiltration) की घटनाओं की ओर सरकार आंख खोलकर देखेगी क्या?”

ये भी पढ़ें-

CAB पर सुब्रमण्यम स्वामी ने कांग्रेस को याद दिलाया 1947 का इतिहास

नागरिकता संशोधन विधेयक पर चिदंबरम का सरकार पर हमला, कहा- कोर्ट में खारिज होगा ये बिल