AIIMS के डायरेक्टर बोले- Lockdown को जल्दी खत्म करने के कारण बढ़े कोरोना के मामले

पीके दवे का कहना है कि मैं आशावादी हूं और यह मानता हूं कि पीक अब आ गया है. मुझे लगता है कि आने वाले दिनों में मामले थोड़े कम होंगे. हमारे पास बेड की संख्या है. ज्यादा जरूरी सही तरीके से मैनेज करने की.
AIIMS director on Corona cases, AIIMS के डायरेक्टर बोले- Lockdown को जल्दी खत्म करने के कारण बढ़े कोरोना के मामले

एम्स (AIIMS) के डायरेक्टर पीके दवे ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि कोरोनावायरस की टेस्टिंग ज्यादा बढ़ाने से फायदा होगा, बल्कि ज्यादा जरूरी है कि ट्रीटमेंट पर ध्यान दिया जाना चाहिए. रेलवे के आइसोलेशन वॉर्ड में नर्स, डॉक्टर और अर्दली चाहिए, वह नहीं हैं. ऐसे में बेड का क्या मतलब है. उन्होंने बताया कि हमने लॉकडाउन को जल्दी खत्म कर दिया, जिसकी वजह से कोरोना के मामले बढ़े हैं.

हालांकि उन्होंने कहा कि कम्यूनिटी ट्रांसफर अभी नहीं शुरू हुआ है. दिल्ली की जनता समझदार है. मुझे लगता है कि पर्सनल हायजीन का ध्यान रखेगी तो कंट्रोल हो सकता है. हर व्यक्ति कोरोना से नहीं मर रहा है. इसे समझने की जरूरत है. कुछ हार्ट, किडनी या डायबटीज से मर रहे हैं, यह जानना जरूरी है.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि जिन्हें खांसी जुकाम है, उसका अच्छी तरीके से इलाज हो तभी बचेंगे. AIIMS के एक डॉक्टर को परेशानी हुई और डेथ हो गई. दवे ने कहा कि हमारे अस्पताल सक्षम हैं. अस्पताल में मरीज आते हैं, ठीक होते हैं और कुछ मर भी जाते हैं. लेकिन यह जानना जरूरी है कि क्यों मरे. आंकड़ों का हम विश्लेषण नहीं कर पा रहे हैं.

पीके दवे का कहना है कि मैं आशावादी हूं और यह मानता हूं कि पीक अब आ गया है. मुझे लगता है कि आने वाले दिनों में मामले थोड़े कम होंगे. हमारे पास बेड की संख्या है. ज्यादा जरूरी सही तरीके से मैनेज करने की. हेल्थ केयर का अच्छी तरह से इस्तेमाल होना जरूरी है. हॉस्पिटल मैनेजमेंट की जरूरत है.

उन्होंने कहा कि LNJP में इतने लोग आए क्यों आए. अस्पताल में अच्छे डॉक्टर की टीम बनाई जाए और यह बताए कि कोरोना के मरीज कौन हैं कौन नहीं?

Related Posts