लंबे इंतजार के बाद AIIMS के ट्रॉमा सेंटर को जल्द मिलने वाला है ‘रूफ टॉप हेलीपैड’

रूफ टॉप हेलीपैड मिलने के बाद दिल्ली का AIIMS देश का ऐसा पहला सरकारी अस्पताल बन जाएगा जहां दुर्घटना का शिकार हुए लोगों को एयरलिफ्ट कर के इलाज के लिए लाया जा सकेगा.
AIIMS Trauma Center Helipad, लंबे इंतजार के बाद AIIMS के ट्रॉमा सेंटर को जल्द मिलने वाला है ‘रूफ टॉप हेलीपैड’

करीब एक दशक के लंबे इंतजार के बाद अब जल्द ही ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (AIIMS) नई दिल्ली के ट्रॉमा सेंटर की छत पर हेलीपैड शुरू होने वाला है. रूफ टॉप हेलीपैड मिलने के बाद दिल्ली का AIIMS देश का ऐसा पहला सरकारी अस्पताल बन जाएगा जहां दुर्घटना का शिकार हुए लोगों को एयरलिफ्ट कर के इलाज के लिए लाया जा सकेगा.

अगले साल की शुरुआत तक हेलीपैड को चालू करने के लिए जरूरी मंजूरी के का आवेदन तैयार हो चुका है और इसे अब मंजूरी के लिए एक महीने के भीतर नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA), विमानन नियामक को भेजा जाएगा. AIIMS की मीडिया एंड प्रोटोकॉल डिविजन की अध्यक्ष आरती विज ने इस बात की पुष्टि करते हुए कहा कि अस्पताल DGCA की मंजूरी लेने के लिए प्रयास कर रहा है.

हेलीपैड के शुरू हो जाने के बाद दुर्घटनाग्रस्त लोगों को गंभीर हालात में भी हाईवे या घटनास्थल से एयरलिफ्ट कर के सीदे ट्रॉमा सेंटर लाया जा सकेगा. हालांकि यह सुविधा फिलहाल शहर के आस-पास तक ही सीमित होगी.

पहले के निरीक्षणों में DGCA को कुछ कमियां दिखी थीं, लेकिन अब DGCA के मानदंडों के अनुसार बुनियादी ढांचा पूरा हो गया है. मालूम हो कि AIIMS के ट्रॉमा सेंटर में एक दिन में लगभग 150-200 दुर्घटनाग्रस्त और चोटिल व्यक्तियों का इलाज किया जाता है. जिनमें से 10 प्रतिशत मरीजों को तुरंत हॉस्पिटल में भर्ती किया जाता है.

ये भी पढ़ें: कश्मीर पर नजर डालोगे जहन्नुम की सैर पर जाओगे, सुरक्षाबलों ने ध्वस्त किया आतंकी ठिकाना

Related Posts