ओवैसी बोले 3T मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ, सुप्रीम कोर्ट में नहीं टिकेगा

तीन तलाक बिल पास होने के बाद AIMIM के प्रमुख और सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने एक के बाद तीन ट्वीट किए. ओवैसी ने कहा मुझे उम्मीद है कि ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड इसकी वैधानिकता को चुनौती देगा.
Asaduddin Owaisi, ओवैसी बोले 3T मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ, सुप्रीम कोर्ट में नहीं टिकेगा

नई दिल्ली: राज्यसभा में तीन तलाक बिल पास होने के बाद सभी पक्ष-विपक्ष के नेताओं की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं. एक न्यूज चैनल से बात करते हुए AIMIM प्रमुख और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि, तीन तलाक बिल पास होना कोई ऐतिहासिक फैसला नहीं है.

उन्होंने कहा कि ये बिल मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ है और ये उनके साथ नाइंसाफी है. उन्होंने कहा कि तीन तलाक गुनाह है, लेकिन जो बिल पास हुआ है, उससे मुस्लिम महिलाओं की परेशानी बढ़ जाएगी. उन्होंने कहा कि तीन तलाक का कानून एक क्लास ऑफ ग्रुप के लिए बनाया गया है. ये कानून सुप्रीम कोर्ट में टिकने वाला नहीं है.

तीन तलाक बिल पास होने के बाद असदुद्दीन ओवैसी ने एक के बाद तीन ट्वीट किए. ट्वीट में उन्होंने लिखा है, “मुझे उम्मीद है कि ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड इसकी वैधानिकता को चुनौती देगा.

उन्होंने लिखा, “ट्रिपल तलाक बिल को मुस्लिमों की पहचान और नागरिकता पर 2014 से किए जा रहे हमले के एक हिस्से के रूप में देखा जाना चाहिए. भीड़ की हिंसा, पुलिस अत्याचार और बड़े पैमाने पर जेल में बंद करना झुका नहीं पाएगा.”

ओवैसी ने कहा, ‘यह कानून मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ है और उन्हें और भी अधिक हाशिए पर रखता है. कानून एक महिला को एक कैद वाले पुरुष के साथ शादी में रहने के लिए मजबूर करता है जो मौखिक रूप से और भावनात्मक रूप से उसके साथ दुर्व्यवहार करता है. यह मुस्लिम महिलाओं पर सबूत का बोझ डालता है और उसे गरीबी में रहने में मजबूर करता है.’

ये भी पढ़ें- तीन तलाक बिल राज्यसभा में पास, जानिए PM मोदी, अमित शाह, रविशंकर प्रसाद ने क्या कहा

ये भी पढ़ें- अब अगर कहा, तलाक तलाक तलाक तो मिलेगी ये सजा

Related Posts