विमान में खराबी के कारण ज्यूरिख में राष्ट्रपति कोविंद को करना पड़ा इंतजार, एयर इंडिया करेगी जांच

एयर इंडिया वन के ज्यूरिख हवाई अड्डे पर तकनीकी खराबी का सामना करने के बाद रविवार को स्विट्जरलैंड से स्लोवेनिया के लिए राष्ट्रपति के प्रस्थान में लगभग तीन घंटे की देरी हुई.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, विमान में तकनीकी खराबी आने के बाद रविवार को ज्यूरिख में राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद की एयर इंडिया वन की उड़ान में देरी हो गई थी. जिस पर एयर इंडिया ने जांच का आदेश दिया है. बोइंग 747 विमान राष्ट्रपति को ज्यूरिख से स्लोवेनिया के लिए उड़ान भरने के लिए निर्धारित किया गया था.

अपने एयर इंडिया वन के ज्यूरिख हवाई अड्डे पर तकनीकी खराबी का सामना करने के बाद रविवार को स्विट्जरलैंड से स्लोवेनिया के लिए राष्ट्रपति के प्रस्थान में लगभग तीन घंटे की देरी हुई. राष्ट्रपति ने हवाईअड्डे की ओर प्रस्थान किया लेकिन विमान में ‘रूडर फाल्ट’ का पता चलने के बाद उन्हें अपने होटल लौटने के लिए कहा गया.

इस बात का पता चलने के तुरंत बाद, एयर इंडिया ने राष्ट्रपति कोविंद के लिए ज्यूरिख के लिए उड़ान भरने के लिए लंदन में स्टैंडबाय पर बोइंग 777 विमान रखा. हालांकि, गड़बड़ी को एयर इंडिया के इंजीनियरों ने ज्यूरिख में ही सेट कर लिया और फिर राष्ट्रपित कोविंद ने स्लोवेनिया के लिए उड़ान भरी.

मालूम हो कि राष्ट्रपति कोविंद आइसलैंड, स्विट्जरलैंड और स्लोवेनिया के दौरे पर हैं जो 9 सितंबर से शुरू हुआ था. एयर इंडिया के विमानों का इस्तेमाल राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री सहित VVIP के दौरों के लिए किया जाता है.

ये भी पढ़ें: पाकिस्तान ने स्पेस में भी लिया ‘बैसाखी’ का सहारा, 2022 में भेजेगा पहला अंतरिक्ष यात्री