एयरसेल मैक्सिस केस: पी चिदंबरम और बेटे कार्ति को अग्रिम जमानत, बिना इजाजत विदेश जाने पर रोक

पिता-पुत्र को एक-एक लाख की सिक्‍योरिटी जमा करानी होगी. इसके अलावा दोनों बिना इजाजत विदेश भी नहीं जा पाएंगे.

एयरसेल मैक्सिस से जुड़े एक मामले में पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम और बेटे कार्ति चिदंबरम को अग्रिम जमानत मिली है. राउज एवेन्यू कोर्ट ने एक मामले में सुनवाई करते हुए यह फैसला दिया. पिता-पुत्र को एक-एक लाख की सिक्‍योरिटी जमा करानी होगी. इसके अलावा दोनों बिना इजाजत विदेश भी नहीं जा पाएंगे.

23 अगस्‍त को अदालत ने अग्रिम जमानत याचिका पर आदेश तीन सितंबर के लिए सुरक्षित कर लिया था. इस मामले की जांच सीबीआई व ईडी कर रही हैं.

SC से नहीं मिली राहत

गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने चिदंबरम को झटका देते हुए INX मीडिया घोटाले से जुड़े प्रवर्तन निदेशालय के मामले में अग्रिम जमानत देने से इनकार कर दिया. न्यायमूर्ति आर. भानुमति की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, “यह अग्रिम जमानत देने के लिए उपयुक्त मामला नहीं है. जांच एजेंसी को जांच के लिए पर्याप्त स्वतंत्रता दी जानी जरूरी है.”

अदालत ने आर्थिक अपराध का संदर्भ देते हुए कहा कि इस तरह के अपराध गंभीर प्रवृत्ति के होते हैं और ऐसे मामलों में जब जांच चल रही हो, अग्रिम जमानत देना अपवाद होना चाहिए. अदालत ने कहा कि अगर आरोपी को जमानत दी जाएगी तो वह सबूतों के साथ छेड़छाड़ कर सकता है.

अदालत ने कहा कि इस चरण में अग्रिम जमानत देने से जांच में बाधा आ सकती है और इसलिए आरोपी को लगातार जमानत (रेगुलर बेल) के लिए उचित अदालत के समक्ष जाना चाहिए. अदालत ने हालांकि कहा कि अग्रिम जमानत का अधिकार अनुच्छेद 32 के तहत मौलिक अधिकार का विषय नहीं हो सकता.

ये भी पढ़ें

VIDEO: क्या पी चिदंबरम ने गमलों में गोभी लगाकर कमाए करोड़ों रुपए? जानें सच

INX मीडिया ने जिस कंपनी को दी रिश्‍वत, उसने चिदंबरम के ट्रस्‍ट को दान किए लाखों रुपये