आखिर क्यों पीछे हटा ड्रैगन! जानें China के विदेश मंत्री से NSA अजीत डोभाल ने क्या कुछ कहा

अजीत डोवाल (Ajit Doval) और वांग यी (Wang Yi) ने इस बात पर सहमति दी है कि राजनयिक और सैन्य अधिकारी भारत-चीन सीमा मामलों पर मैकेनिज्म और कॉर्डिनेशन के लेवल पर काम करेंगे.
ajit doval and wang yi talks on India China Dispute, आखिर क्यों पीछे हटा ड्रैगन! जानें China के विदेश मंत्री से NSA अजीत डोभाल ने क्या कुछ कहा

भारत-चीन (India-China) के बीच बने सीमा विवाद (Border Dispute) को लेकर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजित डोभाल (Ajit Doval) ने रविवार को चीनी विदेश मंत्री वांग यी (Wang Yi) से बात की. ये बातचीत वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए हुई, जो सौहार्दपूर्ण तरीके से दूरदर्शी पहलुओं पर केंद्रित रही है.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

चीन के विदेश मंत्री से हुई इस बैठक में NSA अजीत डोभाल ने इस बात पर जोर दिया कि तनाव घटाने के लिए जो भी कदम उठाए जा रहे हैं उनका जमीनी स्तर पर असर दिखाई देना चाहिए. डोभाल, 1968 बैच के IPS अधिकारी हैं जिन्हें 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने NSA के रूप में नामित किया, इससे पहले वो आईबी के प्रमुख थे. अपनी बातचीत की कुशलता के लिए जाने वाले डोभाल को भारत-चीन तनाव के बीच सीमा मुद्दों पर भारत का विशेष प्रतिनिधि नामित किया गया है.

क्या था बातचीत का मेन फोकस

पीटीआई के मुताबिक अधिकारियों ने कहा है कि इस दो घंटे की बातचीत का मुख्य फोकस सीमा पर शांति की स्थायी बहाली पर था. बातचीत में ये भी सबसे महत्वपूर्ण बात हुई की भविष्य में गलवान जैसी घटनाओं से बचने के लिए बेहतर कॉर्डिनेशन स्थापित किया जाना चाहिए.

बाचतीच बेहद फ्री-फ्रैंक मैनर में हुई है जिसमें दोनों तरफ से ही इस बात पर सहमति बनी है कि संबंधित कमांडर LAC पर शांति बनाए रखने के तौर-तरीकों पर काम करेंगे.

डोभाल और वांग यी ने इस बात पर सहमति दी है कि दोनों पक्षों के राजनयिक और सैन्य अधिकारी भारत-चीन सीमा मामलों पर मैकेनिज्म और कॉर्डिनेशन के लेवल पर काम करेंगे. आपको बता दें कि पिछले कई हफ्तों से डोभाल दोनों देशों के बीच तनाव कम करने के लिए बैक चैनल डिप्लोमेसी का इस्तेमाल कर रहे थे.

अजीत डोभाल और वांग यी के बातचीत में ये भी फैसला हुआ है कि सीमा पर दोनों पक्ष तनाव घटाने के लिए Disengaged करेंगें और शांति व स्थिरता बहाल की जाएगी. फेज वाइज तरीके से Deescalation किया जाएगा और LAC पर यथास्थिति बरकरार रखी जाएगी.

चीन ने भी माना तनाव घट रहा

दूसरी तरफ, चीन ने यह स्‍वीकार कर लिया है कि भारत के साथ लद्दाख में LAC पर तनाव घटाने की दिशा में महत्‍वपूर्ण प्र‍गति हुई है. चीन के विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी करके कहा कि भारत और चीन के सैन्‍य कमांडरों के बीच बातचीत हुई है और तनाव को घटाने की दिशा में प्रभावी कदम उठाए जा रहे हैं.

LAC पर तनाव घटने के आसार

LAC से चीन के पीछे जाने और भारत-चीन के बीच SR Level की बातचीत को जोड़कर देखा जा सकता है. सीमा विवाद को सुलझाने के लिए SR लेवल की बातचीत सबसे बड़ा फॉर्मेट है.

रविवार को दोनों देशों के प्रतिनिधियों के बीच वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से हुई बातचीत में सीमा पर तनाव घटाने के लिए कुछ ठोस कदम उठाए जाने को लेकर चर्चा हुई है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts