जम्मू-कश्मीर के हालात पर अमित शाह-अजित डोवल की बैठक खत्म

बीच-बीच में हालात सामान्य करने के लिए डोवल वहां के लोगों से बातचीत बी कर रहे हैं. डोवल दो दिन पहले ही घाटी से वापस लौटे हैं. 

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को अलग केंद्र प्रशासित प्रदेश में बदलने और विशेष राज्य का दर्ज़ा हटाए जाने के फ़ैसले के पहले से घाटी में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाई हुई है. 5 अगस्त से पूरे राज्य में धारा 144 लागू थी इसके साथ ही लैंडलाइन और इंटरनेट कनेक्शन भी बंद कर दिए गए थे.

चौदह दिन बाद सोमवार से घाटी में एक बार फिर से सामान्य स्थिति बहाल करने की कोशिश की गई है. सोमवार को प्रशासन ने यहां के 190 से ज्‍यादा प्राइमरी स्‍कूल खोलने का फैसला लिया है. कड़ी सुरक्षा के बीच आज घाटी के कई स्कूल-कॉलेज खुले हैं, हालांकि बच्चे काफी कम संख्या में स्कूल पहुंचे थे.

हालात सामान्‍य रहे तो बाकी जिलों के स्‍कूल भी योजनाबद्ध तरीके से खोले जाएंगे. कश्मीर के तमाम हालात को लेकर गृह मंत्री अमित शाह और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवल की बैठक खत्म हो गई है. इस बैठक में अमित शाह, अजित डोवल के अलावा गृह सचिव और अन्य बड़े अधिकारी भी शामिल थे.

ज़ाहिर है राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवल पिछले काफी दिनों से जम्मू-कश्मीर में रहकर वहां के हालात पर नज़र बनाए हुए थे. बीच-बीच में हालात सामान्य करने के लिए डोवल वहां के लोगों से बातचीत बी कर रहे हैं. डोवल दो दिन पहले ही घाटी से वापस लौटे हैं.