अजित डोभाल बोले- पुलवामा शहीदों को न भूले हैं और न कभी भूलेंगे

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आत्मघाती आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान के बालाकोट में एयर स्ट्राइक की थी.

गुरुग्राम: राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने कहा है कि पुलवामा हमले में शहीद हुए जवानों को देश न कभी भूला है और न कभी भूलेगा. डोभाल ने केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के 80वें स्थापना दिवस के मौके पर ये बातें कही. उन्होंने शहीदों को श्रद्धांजलि दी और सीआरपीएफ के योगदान को बेहद महत्वपूर्ण बताया.

उन्होंने कहा, “आंतरिक सुरक्षा का बहुत महत्व है. द्वितीय विश्व युद्ध के बाद 37 देश ऐसे थे, जो टूट गए या फिर अपनी संप्रभुता खो बैठे. इनमें से 28 का कारण आंतरिक संघर्ष था. देश अगर कमजोर होते हैं तो उसका कारण कहीं न कहीं आंतरिक सुरक्षा की कमी होती है.”

डोभाल ने कहा कि आंतरिक सुरक्षा का दायित्व सीआरपीएफ पर है तो आप समझ सकते हैं कि आपको कितनी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी मिली है. 

उन्होंने कहा, “जब भी हम किसी बैठक में इस बात पर चर्चा करते हैं कि किस बल को भेजा जाना चाहिए, कितनी बटालियन भेजी जानी चाहिए, हम कहते हैं कि सीआरपीएफ को भेजिए. यह विश्वसनीय बल है. हम उन पर पूरा भरोसा करते हैं. ऐसी विश्वसनीयता हासिल करने में सालों लग जाते हैं.”

बता दें कि मंगलवार को गुरुग्राम स्थित सीआरपीएफ की 80वीं वर्षगांठ परेड में अजित डोभाल बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए थे.