कृषि कानूनों के खिलाफ विशेष विधानसभा सत्र बुलाने के लिए भी तैयार : अमरिंदर सिंह

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) ने कहा कि कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ वो हर संभव कदम उठाएंगे. उन्होंने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) जाने से लेकर विशेष विधानसभा सत्र बुलाने का आश्वासन किसानों को दिया.

File Pic-Amarinder Singh

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) ने मंगलवार को किसानों को भरोसा दिलाया कि नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ हर संभव कानूनी कदम और दूसरे प्रयास किए जाएंगे. उन्होंने विशेष विधानसभा सत्र (Special Session of Parliament) बुलाने के लिए भी किसानों को आश्वासन दिया.

अमरिंदर सिंह ने 31 किसान संगठनों के प्रतिनिधियों संग बैठक कर इस विषय पर उनसे बात की. बैठक की अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वो इस मामले पर अपनी लीगल टीम के साथ चर्चा कर आगे की रणनीति बनाएंगे. उन्होंने कहा कि वो सुप्रीम कोर्ट में कृषि कानूनों को चुनौती देने के बारे में भी चर्चा करेंगे.

यह भी पढ़ें : स्वार्थ के लिए कृषि विधेयकों को सियासी रंग दे रही कांग्रेस: केंद्रीय कृषि मंत्री

उन्होंने कहा कि हम राज्य के संघीय और संवैधानिक अधिकारों पर केंद्र सरकार के हमले का मुकाबला करने और किसानों के हित में लड़ने के लिए हर संभव कदम उठाएंगे. अगर लीगल एक्सपर्ट कृषि कानूनों के खिलाफ राज्य के कानून में संशोधन की सलाह देते हैं तो तुरंत विधानसभा का एक विशेष सत्र बुलाया जाएगा.

अकाली दल पर उठाए सवाल

अकाली दल पर सवाल उठाते हुए अमरिंदर सिंह ने कहा कि अगर वे सच में किसानों के हितों को लेकर चिंतित हैं तो जब केंद्र सरकार ने कृषि अध्यादेश प्रस्तुत किए थे तब हरसिमरत बादल ने केंद्रीय मंत्रीमंडल से इस्तीफा क्यों नहीं दिया?

उन्होंने दावा किया कि पंजाब कांग्रेस और उनकी सरकार किसानों की इस मुश्किल घड़ी में उनके साथ है. कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि वो किसान संगठनों और कानूनी जानकारों से सलाह लेने के बाद मामले में अगला कदम उठाएंगे. पंजाब के मुख्यमंत्री ने कहा कि कृषि कानूनों से 60 सालों से चल रहीं मंडियों और MSP का सफाया हो जाएगा.

यह भी पढ़ें : 72 घंटे में पंजाब-हरियाणा से 31 करोड़ के 16,420 टन धान की खरीद MSP पर हुई : सरकार

Related Posts