15 दिन के बच्चे की जिंदगी बचाने के लिए थम गया केरल

बॉलीवुड फिल्म ट्रैफिक जैसी कहानी रियल लाइफ में भी देखने को मिली. सोशल मीडिया की पहल और लोगों की समझ-बूझ के चलने ये असंभव काम संभव हो पाया.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 3:38 pm, Wed, 17 April 19

केरला: बॉलीवुड फिल्म ट्रैफिक तो आपने देखी ही होगी. जिसमें अभिनेता मनोज वाजपेयी ने एक संवेदनशील ट्रैफिक कांस्टेबल की भूमिका निभाई थी. फिल्म में 12 साल की एक बच्ची की जान बचाने के लिए ट्रैफिक कांस्टेबल ने अपनी पूरी क्षमता झोंक दी थी. नतीजतन ढाई घंटे के भीतर 160 किलोमीटर का सफर तय कर दिल प्रत्यारोपण के लिए सफलतापूर्वक अस्पताल पहुंचा दिया जाता है और बच्ची की जान बच जाती है.

कुछ ऐसा ही दृश्य रियल लाइफ में भी देखने को मिला. केरल में 15 दिन के बच्चे को हार्ट वॉल्व सर्जरी के लिए मेंगलोर से कोच्चि ले जा रही एंबुलेंस के लिए 400 किलोमीटर लंबा ग्रीन कॉरिडोर बनाया गया. ग्रीन कॉरीडोर से 400 किलोमीटर की दूरी महज 5 घंटे में पूरी की गई.

इस यात्रा को फेसबुक पर लाइवस्ट्रीम भी किया गया. लाइवस्ट्रीम कर लोगों आगे का रास्ता साफ करने का अनुरोध किया गया. केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने भी लोगों से सहयोग करने को कहा.

इस ट्वीट के जरिए पहले सभी ड्राइवर्स को जानकारी दी गई. इसमें लिखा है, ‘केरल के सभी ड्राइवर्स ध्यान दें, एक एंबुलेंस (KL-60 – J 7739) मंगलुरु से तिरुवनंतपुरम जा रही 15 दिन के बच्चे को लेकर. यह एंबुलेंस श्री चित्रा अस्पताल तिरुवनंतपुरम जाएगी. प्लीज रास्ता दें. एंबुलेंस सुबह 10 बजे मंगलुरु से निकलेगी.’


‘द चाइल्ड प्रोटेक्ट’ एक एनजीओ है, उन्होंने यह फेसबुक लाइव किया. मंगलुरु से तिरुवनंतपुरम के रास्ते में 12 जिले आते हैं. एनजीओ ने इन 12 जिले में लोगों से कॉर्डिनेट किया और रास्ता खाली करवाया. यहां तक कि इसमें स्थानीय पुलिस ने उनका काफी साथ दिया.

कांग्रेस नेता शशि थरुर ने भी ट्वीट कर लोगों से सड़क छोड़ने की अपील की थी. सभी के प्रयासों के बाद ये पूरा ऑपरेशन सफलतापूर्वक हो गया.