“कांग्रेस ने तो फारूक अब्‍दुल्‍ला के पिता को 11 साल जेल में रखा था, हम वैसा नहीं करना चाहते”

गृहमंत्री अमित शाह ने कांग्रेस को याद दिलाया कि उन्‍होंने पूर्व सीएम फारूक अब्‍दुल्‍ला के पिता शेख अब्‍दुल्‍ला को 11 साल जेल में रखा था.

लोकसभा में बुधवार को घाटी के हालात पर विपक्ष ने सरकार को घेरने की कोशिश की. कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने सवाल पूछा कि हिरासत में लिए गए नेताओं को कब छोड़ा जाएगा. जवाब में गृहमंत्री अमित शाह ने कांग्रेस को याद दिलाया कि उन्‍होंने पूर्व सीएम फारूक अब्‍दुल्‍ला के पिता को 11 साल जेल में रखा था.

कांग्रेस के अधीर रंजन ने सवाल उठाते हुए कहा, “कश्‍मीर में कौन से हालात सामान्‍य हुए हैं? हमारे नेता राहुल गांधी को वहां जाने नहीं दिया जाता. हिरासत में लिए गए नेता कब छोड़े जाएंगे?”

जवाब में शाह ने कहा, “कश्‍मीर के 99.5 फीसदी छात्रों ने परीक्षा दी मगर अधीर रंजन चौधरी के लिए यह सामान्‍य नहीं है. श्रीनगर में 7 लाख लोगों ने OPD सेवाएं लीं, हर जह से कर्फ्यू, धारा 144 हट गई है. लेकिन अधीर जी के लिए हालात सामान्‍य होने का पैमाना राजनीतिक गतिविधि है. स्‍थानीय निकाय चुनावों का क्‍या जो सकुशल कराए गए?”

उन्‍होंने आगे कहा, “कश्‍मीर घाटी में हालात बिल्‍कुल सामान्‍य हैं. मैं कांग्रेस की हालत सामान्‍य नहीं कर सकता क्‍यों‍कि उन्‍होंने अनुच्‍छेद 370 हटने के बाद खून-खराबे की आशंका जताई थी. वैसा कुछ नहीं हुआ, एक गोली नहीं चली.”

घाटी के नेताओं को रिहा करने की बात पर गृहमंत्री ने कहा, “हम उन्‍हें जेल में एक दिन भी एक्‍स्‍ट्रा नहीं रखना चाहते. जब प्रशासन को लगेगा कि सही समय है, राजनेता रिहा कर दिए जाएंगे. फारूक अब्‍दुल्‍ला के पिता को कांग्रेस ने 11 साल जेल में रखा, हम उनके रास्‍ते नहीं जाना चाहते मगर जैसे ही प्रशासन फैसला लेगा, उन्‍हें (नेताओं) छोड़ दिया जाएगा.”

ये भी पढ़ें

नागरिकता संशोधन बिल पास होने से इमरान खान बौखलाए, ट्वीट में बताया ‘RSS का प्‍लान’

नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 : लोकसभा से पास, जानें राज्‍यसभा में क्‍या है सरकार का गणित?