अमित शाह-राजनाथ सिंह ने किया 1000 बेड वाले कोविड अस्पताल का उद्घाटन, DRDO ने 12 दिनों में बनाया

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) और गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने दौरा कर सरदार वल्लभभाई पटेल अस्पताल का संचालन शुरू किया है. इस अस्पताल में वेंटिलेटर लैस 250 ICU बेड की सुविधा भी होगी.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 7:41 pm, Sun, 5 July 20

दिल्ली (Delhi) में कोरोना (Coronavirus) के विरुद्ध लड़ाई के लिए महज 12 दिनों में 250 ICU बेड्स वाला 1000 बेड का अस्पताल बनकर तैयार हो गया है. रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) और गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने दौरा कर सरदार वल्लभभाई पटेल अस्पताल का संचालन शुरू किया है.

दिल्ली एयरपोर्ट के बिल्कुल करीब बने इस अस्पताल का मुआयना करने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और गृहमंत्री अमित शाह पहुंचे. इस मौके पर गृहमंत्री शाह ने कहा प्रधानमंत्री मोदी इस चुनौतीपूर्ण समय में दिल्ली की जनता की मदद करने के लिए पूरी तरह से कटिबद्ध है और यह कोविड अस्पताल पुनः उसी संकल्प को दर्शता है.

अमित शाह ने किया DRDO और टाटा संस का धन्यवाद

तेजी से बेहतरीन काम करने के लिए अमित शाह ने डीआरडीओ, टाटा संस और बहादुर सशस्त्र बल चिकित्सा कर्मियों का धन्यवाद किया. केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में Covid-19 के प्रबंधन और इससे निपटने के उपायों की समीक्षा के लिए 14 जून से लगातार कई बैठकें कर दिल्ली में बेड्स बढ़ाने, उपचार की दरें कम करने, टेस्टिंग और सुविधाओं में बढ़ोतरी समेत अनेक महत्वपूर्ण निर्णय लिए.

12 दिन में बनकर तैयार हुआ अस्पताल

अधिक से अधिक लोगों का उपचार व जान बचाने के मोदी सरकार के जज़्बे को और मज़बूत करते हुए यह अस्पताल रिकॉर्ड 12 दिन में बनकर तैयार हुआ है. महज 12 दिनों के रिकॉर्ड समय में बने इस अस्पताल का संचालन आज 5 जुलाई 2020 से शुरू हो गया है. इस अस्पताल के चालू होने से दिल्ली में कोविड-19 बेड्स में 11 प्रतिशत की अतिरिक्त वृद्धि होगी, जिससे वर्तमान गंभीर स्थिति पर काबू पाया जा सकेगा.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

यह अस्पताल भारतीय रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO), गृह मंत्रालय, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय (MOHFW), सशस्त्र बलों और टाटा संस ने मिलकर रिकॉर्ड 12 दिन में तैयार किया है.

टर्मिनल-1 के पास की जमान पर बना अस्पताल

डीआरडीओ ने युद्धस्तर पर अस्पताल का डिजाइन, विकास और सुविधाओं का परिचालन शुरू किया है. भारतीय वायु सेना की अनुमति से नई दिल्ली के डोमेस्टिक हवाई अड्डे के टर्मिनल-1 के पास स्थित भूमि की पहचान की गई और डीआरडीओ ने 23 जून को रक्षा लेखा महानियंत्रक (सीजीडीए) हेडक्वाटर्स के निकट उलन बटर मार्ग पर निर्माण कार्य शुरू किया.

कोरोना के मरीजों का होगा मुफ्त इलाज

इस अस्पताल का संचालन सशस्त्र बल चिकित्सा सेवा (AFMS) के डॉक्टर्स , नर्स और सहायक स्टाफ की मेडिकल टीम द्वारा किया जाएगा, जबकि डीआरडीओ इसका रख रखाव करेगा. रोगियों को मानसिक रूप से मजबूत करने के लिए अस्पताल में डीआरडीओ प्रबंधित एक समर्पित मनोवैज्ञानिक परामर्श केंद्र की अतिरिक्त सुविधा भी उपलब्ध है. इस सुविधा में जिला प्रशासन द्वारा रेफ़र कोविड-19 रोगियों को भर्ती किया जाएगा और उनका मुफ्त इलाज होगा. गंभीर मामलों को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) भेजा जाएगा.

250 ICU बेड की सुविधा

केंद्रीय वातानुकूलित, यह अद्वितीय चिकित्सा सुविधा 25,000 वर्गमीटर में फैली हुई है और इसमें 250 आईसीयू बेड हैं. प्रत्येक आईसीयू बेड निगरानी उपकरण और वेंटिलेटर से लैस है. यह सुविधा सेफ कंटाजिएन कंटेनमेंट (Safe Contagion Containment) के लिये निगेटिव इंटरनल प्रेशर ग्रेडिऐंट (Negative Internal Pressure Gradient) की आधारभूत संरचना के साथ बनायी गई है. इसको ओक्टानोर्म मॉड्यूल (Octanorm Modules) के आधार पर तेज निर्माण तकनीक (Rapid Fabrication Technique) का उपयोग करके बनाया गया है.

एक दिन का वेतन देंगे DRDO के कर्मचारी

इस परियोजना को टाटा संस के प्रमुख योगदान के साथ वित्त पोषित किया गया है. अन्य योगदान करने वालों में मैसर्स बीईएल, मैसर्स बीडीएल, एएमपीएल, श्वेंकटेश्वर इंजीनियर्स, ब्रह्मोस प्राइवेट लिमिटेड और भारत फोर्ज शामिल हैं. डीआरडीओ के कर्मचारी स्वेच्छा से इसमें एक दिन के वेतन का योगदान कर रहे हैं.

अमित शाह ने दिए अहम निर्देश

गृहमंत्री अमित शाह के निर्देश पर दिल्ली के निजी अस्पतालों में कोविड मरीज़ों के उपचार की दरें लगभग एक तिहाई करने, राजधानी में 20,000 हज़ार अतिरिक्त बेड्स उपलब्ध कराने, रैपिड एंटीजन प्रणाली का उपयोग कर टेस्टिंग बढ़ाने, कंटेनमेंट ज़ोन का नए सिरे से परिसीमन, सभी संक्रमित व्‍यक्तियों की आरोग्य सेतु और इतिहास एप के सहयोग से कांटेक्ट ट्रेसिंग और अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) के विशेषज्ञ डॉक्टर्स द्वारा मरीजों को कोविड टेलीमेडिसिन के जरिये सलाह देने की सुविधा जैसे महत्वपूर्ण फ़ैसले लिए गए हैं.

इस मौक़े पर केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन, गृह राज्य मंत्री जी. किशन रेड्डी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और डीआरडीओ अध्यक्ष जी सतीश रेड्डी भी मौजूद थे.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे