गोडसे पर BJP नेताओं के बयान पर अमित शाह की सफाई, बोले- 10 दिन में मांगी है रिपोर्ट

अमित शाह ने ट्विटर पर लिखा कि इन बयानों का पार्टी से कोई लेना-देना नहीं है.

नई दिल्‍ली: भारतीय जनता पार्टी अध्‍यक्ष अमित शाह ने नाथूराम गोडसे पर पार्टी नेताओं द्वारा दिए गए बयान पर प्रतिक्रिया दी है. उन्‍होंने कहा कि इन बयानों का पार्टी से कोई लेना-देना नहीं है. पार्टी की अनुशासन समिति ने नेताओं से जवाब मांगा है और 10 दिन के भीतर रिपोर्ट सौंप दी जाएगी.

शाह ने ट्ववीट में कहा, “विगत 2 दिनों में श्री अनंतकुमार हेगड़े, साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर और श्री नलीन कटील के जो बयान आये हैं वो उनके निजी बयान हैं, उन बयानों से भारतीय जनता पार्टी का कोई संबंध नहीं है. इन लोगों ने अपने बयान वापिस लिए हैं और माफ़ी भी मांगी है.”

अनुशासन समिति के पास गया मामला

शाह ने आगे लिखा, “फिर भी सार्वजनिक जीवन तथा भारतीय जनता पार्टी की गरिमा और विचारधारा के विपरीत इन बयानों को पार्टी ने गंभीरता से लेकर तीनों बयानों को अनुशासन समिति को भेजने का निर्णय किया है. अनुशासन समिति तीनों नेताओं से जवाब मांगकर उसकी एक रिपोर्ट 10 दिन के अंदर पार्टी को दे, इस तरह की सूचना दी गयी है.”

किस बयान पर हुआ बवाल?

भोपाल संसदीय सीट से बीजेपी उम्‍मीदवार प्रज्ञा ठाकुर ने कहा था कि ‘नाथूराम गोडसे देशभक्त थे, हैं और रहेंगे.’ केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े और बीजेपी विधायक नलीन कटील ने इस बयान का समर्थन करते हुए ट्वीट किए थे.

हेगड़े ने लिखा था, ‘अब माफी मांगने का नहीं, अड़े रहने का वक्त है. अभी नहीं तो कब?’ हालांकि बाद में हेगड़े ने दावा किया कि उनका ट्विटर अकाउंट हैक हो गया है. जबकि कटील ने ट्वीट डिलीट कर माफी मांग ली है.

ये भी पढ़ें

प्रज्ञा ठाकुर के गोडसे वाले बयान पर केंद्रीय मंत्री अनंत हेगड़े ने किया समर्थन, फिर कहा ‘हैक हुआ अकाउंट’

‘मुझे गिरफ्तार करेंगे तो समस्‍याएं बढ़ जाएंगी’, गोडसे पर बयान के बाद विवाद पर बोले कमल हासन