सुप्रीम कोर्ट की आम्रपाली ग्रुप को फटकार- आपसे प्रोजेक्ट छीनकर अथॉरिटी को क्यों न सौंपा जाए

आम्रपाली ग्रुप के चेयरमैन अनिल शर्मा के वकील ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि सारा पैसा वापस लौटा देंगे.

नई दिल्ली. रियल एस्टेट ग्रुप आम्रपाली के खिलाफ अधूरे पड़े प्रॉजेक्ट मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है. सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली ग्रुप को बुधवार को फटकार लगाते हुए पूछा है कि क्यों न आम्रपाली से प्रोजेक्ट छीनकर इसे अथॉरिटी को सौंप दिया जाए और वही बचे हुए प्रोजेक्ट को बनाए और बेचे. सुप्रीम कोर्ट में आम्रपाली के खिलाफ बायर्स ने याचिका दायर की थी, उसी पर सुनवाई चल रही है.

सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई में कहा कि जो रिकॉर्ड हमें मिले हैं उसमे मालूम चल रहा है कि जो पैसे प्रोजेक्ट तैयार करने के लिए बायर्स से मिले और जो प्रोजेक्ट में खर्च हुए, उसमे 350 करोड़ की बचत हुई है. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने पूछा कि क्यों न आम्रपाली को प्रोजेक्ट से बाहर करकर इसे नोएडा और ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी को सौंपा जाए. उच्चतम न्यायलय ने आगे सुनवाई करते हुए ये भी कहा कि बैंक अपना बकाया आम्रपाली ग्रुप के डायरेक्टर से वसूल करें. सुप्रीम कोर्ट ने इशारा किया है कि वह आम्रपाली के प्रोजेक्ट छीनकर अथॉरिटी को दे सकती है.

ये भी पढ़ेंअस्पताल की चौखट में दर्द से कराहती रही गर्भवती महिला, फर्श में ही दिया बच्चे को जन्म

सुप्रीम कोर्ट के ये पूछने पर कि ‘130 करोड़ रुपये कहां चले गए और यह पैसे कैसे वापस आएंगे. आप बात को गोल गोल मत घुमाइए.’ आम्रपाली ग्रुप के चेयरमैन अनिल शर्मा के वकील ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि सारा पैसा वापस लौटा देंगे. सुप्रीम कोर्ट ने अनिल शर्मा का का बैंक स्टेटमेंट मंगाया. सुप्रीम कोर्ट ने कहा इसमें कोई शक नहीं कि पैसे की कहीं हेरा फेरी हुई है. बायर्स ने जिस उद्देश्य के लिए पैसा इन्वेस्ट किया था उसका इस्तेमाल सही जगह नहीं किया गया. सुप्रीम कोर्ट ने सख्त लहजे में पूछा कि बायर्स के पैसे को देवघर और नोएडा में होटल बनाने के लिए कैसे इस्तेमाल किया गया.