म्यूनिख में भारतीय दंपत्ति पर चाकू से हमला, सुषमा स्वराज ने की मदद, पढ़ें चौकीदारी पर आखिर क्या कहा?

सुषमा स्वराज ने बताया कि उन्होंने म्यूनिख में भारतीय दूतावास से दंपत्ति के दो बच्चों की देखरेख करने को कहा है. इस घटना के बारे में विस्तृत जानकारी अभी तक नहीं मिल पाई है.

नई दिल्ली: जर्मनी के म्यूनिख में एक अप्रवासी ने भारतीय दंपत्ति पर जानलेवा हमला किया है. हमले में पुरुष की मौत हो गई जबकि उनकी पत्नी घायल हैं. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट करके इस बात की जानकारी दी है.

उन्होंने लिखा, “भारतीय दंपत्ति प्रशांत और स्मिता बसारूर पर म्यूनिख के निकट एक अप्रवासी व्यक्ति ने चाकू से हमला किया. दुर्भाग्यवश प्रशांत की मौत हो गई. स्मिता की हालत स्थिर है. हम प्रशांत के भाई की जर्मनी यात्रा का प्रबंध कर रहे हैं. शोक संतप्त परिवार के प्रति मेरी संवादनाएं.”


सुषमा स्वराज ने बताया कि उन्होंने म्यूनिख में भारतीय दूतावास से दंपत्ति के दो बच्चों की देखरेख करने को कहा है. इस घटना के बारे में विस्तृत जानकारी अभी तक नहीं मिल पाई है.

नाम के आगे ‘चौकीदार’ क्यों लगा?
इस बीच एक ट्विटर यूजर ने स्वराज से पूछा कि भाजपा की ‘सबसे संवेदनशील नेता’ ने अपने नाम के आगे ‘चौकीदार’ क्यों लगाया है?

सुषमा ने कहा, “क्योंकि मैं विदेश में भारत और भारतीय नागरिकों के हितों की चौकीदारी कर रही हूं.”

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव से पहले ‘मैं भी चौकीदार’ अभियान की शुरू किया है. इसके तहत अधिकांश भाजपा नेताओं ने अपने नाम के आगे चौकीदार लगा लिया है. पीएम मोदी का ये अभियान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के ‘चौकीदार चोर है’ नारे के जवाब में शुरू किया गया है.