राज्यसभा में उपसभापति से भिड़ गए आनंद शर्मा, कहा- हम से ऐसे व्यवहार न करें

यूपीए के दूसरे कार्यकाल में स्वास्थ्य मंत्री रहे गुलाम नबी आजाद ने कहा कि बुनियादी ढांचे को मजबूत करने का काम हमने किया था और कॉलेजेस में सीटें बढ़ाए जाने का श्रेय मौजूदा सरकार को बिलकुल नहीं जाता.

नई दिल्ली: राज्यसभा में गुरुवार को नेशनल मेडीकल कमीशन बिल पास हो गया. हालांकि इस बिल पर हुई चर्चा काफी तीखी रही. चर्चा के दौरान कांग्रेस पार्टी से राज्यसभा सांसद आनंद शर्मा उपसभापति से भिड़ गए.

शर्मा ने कहा कि हर बार चेयर की तरफ से कहा जाता है कि कुछ भी रिकॉर्ड पर नहीं जाएगा. क्या ये प्राइमरी स्कूल है. अगर कुछ रिकॉर्ड पर जाएगा ही नहीं तो हम यहां क्या करने आए हैं. कांग्रेस पार्टी के नेता के इस आरोप के जवाब में उपसभापति हरिवंश नारायण सिंह ने कहा कि आपने गल धारणा बनाई हुई है.

उपसभापति के जवाब पर पलटवार करते हुए आनंद शर्मा ने कहा कि आप हमारे साथ ऐसा व्यवहार नहीं कर सकते हैं. विपक्षी दलों ने भी इस मुद्दे पर कांग्रेस पार्टी के नेता का समर्थन करते हुए कहा कि अगर कोई मंत्री सफाई देने के लिए तैयरा हैं तो चेयर को इसपर क्या आपत्ति है.

मालूम हो कि मेडिकल बिल को लेकर पक्ष और विपक्ष में जमकर बहस हुई थी. नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद ने बिल पर चर्चा के दौरान कहा कि यूपीए सरकार ने एमसीआई एक्ट में सुधार किया था और मेडिकल एजुकेशन के लिए भी काफी काम किया था.

यूपीए के दूसरे कार्यकाल में स्वास्थ्य मंत्री रहे गुलाम नबी आजाद ने कहा कि बुनियादी ढांचे को मजबूत करने का काम हमने किया था और कॉलेजेस में सीटें बढ़ाए जाने का श्रेय मौजूदा सरकार को बिलकुल नहीं जाता. ये फैसला हमारी सरकार ने लिया था जिसका नतीजा आज देखने को मिल रहा है.

ये भी पढ़ें: जम्मू कश्मीर में तैनात होंगी सुरक्षा बलों की 280 कंपनियां, 15 राजस्थान से हुईं रवाना