हिंदुस्तान की राजधानी दिल्ली के इस हाल के लिए कौन है जिम्मेदार? पढ़ें Tv9Bharatvarsh का सर्वे

इस सर्वे के जरिए दिल्ली की हिंसक झड़प पर जनता की राय और सोच क्या है, इसकी एक तस्वीर भी साफ होती है. जानें क्या है जनता की राय...
Delhi violence survey, हिंदुस्तान की राजधानी दिल्ली के इस हाल के लिए कौन है जिम्मेदार? पढ़ें Tv9Bharatvarsh का सर्वे

दिल्ली में भड़की हिंसा के लिए कौन जिम्मेदार है? इसके पीछे किस का दिमाग है? किसने दिल्ली को सुलगाया है? ये वो सवाल हैं जो दिल्ली की हिंसा के बाद आप सभी के जहन में कोंध रहे होंगे. आपके इन तमाम सवालों के जवाब तलाशने की कोशिश में टीवी9 भारतवर्ष ने एक ऑनलाइन सर्वे किया. इस सर्वे के जरिए दिल्ली की हिंसक झड़प पर जनता की राय और सोच क्या है, इसकी एक तस्वीर भी साफ होती है. जानें क्या है जनता की राय…

1. अमेरिकी राष्ट्रपति के दौरे के वक्त दिल्ली में हिंसा होने से देश की छवि को नुकसान पहुंचा है?

हां- 77 प्रतिशत
नहीं – 20 प्रतिशत
कह नहीं सकते – 3 प्रतिशत

2. ट्रंप के भारत दौरे पर हिंसा बढ़ना क्या सोची समझी साजिश?

हां – 80 प्रतिशत
नहीं – 17 प्रतिशत
कह नहीं सकते – 3 प्रतिशत

3. दिल्ली में माहौल खराब करने का जिम्मेदार कौन?

अमानतुल्लाह खान – 31 प्रतिशत
कपिल मिश्रा – 45 प्रतिशत
CAA प्रोटेस्ट – 24 प्रतिशत

4. क्या शाहीन बाग का धरना खत्म होता तो दिल्ली बच जाती?

हां – 56 प्रतिशत
नहीं – 36 प्रतिशत
कह नहीं सकते – 8 प्रतिशत

5. क्या दिल्ली पुलिस हिंसा से निपटने में नाकाम साबित हुई?

हां – 77 प्रतिशत
नहीं – 19 प्रतिशत
कह नहीं सकते – 4 प्रतिशत

6. क्या दिल्ली के अब तक के सबसे नाकाम पुलिस कमिश्नर साबित हुए अमूल्य पटनायक?

हां – 76 प्रतिशत
नहीं – 17 प्रतिशत
कह नहीं सकते – 7 प्रतिशत

7. क्या दिल्ली में हिंसा पर राजनीति हो रही है?

हां – 87 प्रतिशत
नहीं – 12 प्रतिशत
कह नहीं सकते – 1 प्रतिशत

8. क्या ओवैसी की मांग के मुताबिक दिल्ली को सेना के हवाले कर देना चाहिए?

हां – 74 प्रतिशत
नहीं – 24 प्रतिशत
कह नहीं सकते – 2 प्रतिशत

9. क्या कुछ नेता CAA और NRC-NPR पर लोगों को गुमराह कर रहे हैं ?

हां – 74 प्रतिशत
नहीं – 22 प्रतिशत
कह नहीं सकते – 4 प्रतिशत

10. क्या ताहिर हुसैन को आप दिल्ली में हुई हिंसा के लिए जिम्मेदार मानते हैं? 

हां – 65 प्रतिशत
नहीं – 26 प्रतिशत
कह नहीं सकते – 9 प्रतिशत

ये भी पढ़ें : दिल्ली हिंसा के दौरान PCR को हर मिनट में आई 4 SOS कॉल, मंगलवार को मिली सबसे ज्यादा शिकायतें

Related Posts