Corona के खिलाफ जंग के चलते चर्चा में आईं डिप्‍टी मजिस्‍ट्रेट देबदत्‍ता रे की COVID-19 से मौत

देबदत्ता रे हुगली (Hooghly) जिले में प्रवासी मजदूरों (Migrant Workers) के लिए बने कैंप की इंचार्ज थीं. संकट की इस घड़ी में उनके मानवीय कामों के लिए उन्हें काफी सराहा गया था.
west Bengal Bureaucrat Dies Of Covid 19, Corona के खिलाफ जंग के चलते चर्चा में आईं डिप्‍टी मजिस्‍ट्रेट देबदत्‍ता रे की COVID-19 से मौत

पश्चिम बंगाल में कोरोनावायरस (Coronavirus) के खिलाफ फ्रंटलाइन पर लड़ाई लड़ते-लड़ते खुद महामारी की शिकार हुई गवर्नमेंट ऑफिसर की सोमवार को मौत हो गयी. 38 साल की देबदत्ता रे राज्य के हुगली (Hooghly) जिले के चांदनगर सब डिवीज़न में डिप्टी मजिस्ट्रेट की पोस्ट पर तैनात थी. COVID-19 के लक्षण नज़र आने पर वह कोलकाता के निकट डमडम इलाके में स्थित अपने घर में क्वारंटीन Quarantine) थीं.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

रविवार को सांस लेने में दिक्कत होने पर देबदत्ता को श्री रामपुर के श्रमजीवी अस्पताल में भर्ती किया गया, जहां सोमवार सुबह कोरोना से उनकी मौत हो गयी. देबदत्ता रे हुगली जिले में प्रवासी मजदूरों के लिए बने कैंप की इंचार्ज थीं. संकट की इस घड़ी में उनके मानवीय कामों के लिए उन्हें काफी सराहा गया था. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी उन्हें ट्विटर पर श्रद्धांजलि दी है.

देबदत्ता रे वेस्ट बंगाल सिविल सर्विस (WBCS) के 2010 बैच की ऑफिसर थीं. चांदनगर में डिप्टी मजिस्ट्रेट का पद संभालने से पहले वो पुरुलिया में BDO की पोस्ट पर तैनात थी.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

Related Posts