आर्टिकल 370 हटने के बाद पहली बार घाटी में आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत

घाटी से अक्‍सर जुमे की नमाज के दौरान हिंसा की खबरें आती हैं, ऐसे में यह दिन सुरक्षा बलों के लिए बेहद अहम रहने वाला है.

आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत शुक्रवार को जम्‍मू-कश्‍मीर में होंगे. अनुच्‍छेद 370 हटाए जाने के बाद सेना प्रमुख का यह पहला कश्‍मीर दौरा है. जनरल बिपिन रावत श्रीनगर में सुरक्षा हालात का जायजा लेंगे. इसके बाद कश्‍मीर घाटी में हालात से निपटने को सुरक्षाबलों की तैयारियों की निगरानी करेंगे. इससे पहले गुरुवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने लेह में ‘इंस्टीट्यूट ऑफ हाई आल्टिट्यूड रिसर्च’ में किसान मेले का उद्घाटन करने के बाद घाटी में सुरक्षा का जायजा लिया था.

घाटी से अक्‍सर जुमे की नमाज के दौरान हिंसा की खबरें आती हैं, ऐसे में यह दिन सुरक्षा बलों के लिए बेहद अहम रहने वाला है. रावत का यह दौरा पाकिस्तान प्रशिक्षित जेईएम आतंकवादियों के सांप्रदायिक हिंसा भड़काने के लिए समुद्री रास्तों का इस्तेमाल कर भारत में दाखिल होने के खतरे के मद्देनजर हाई अलर्ट जारी होने के बीच हो रहा है.

इस महीने की शुरूआत में, जनरल रावत ने कहा था कि सेना कश्मीर के लोगों के साथ सौहार्दपूर्ण संबंधों के लिए प्रतिबद्ध है.

जम्मू एवं कश्मीर पुलिस ने राजौरी और पुंछ जिलों के पांच लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. आरोप है कि उन्होंने फेसबुक पर ‘संवेदनशील टिप्पणी’ पोस्ट की थी, जिससे राज्य में कानून और व्यवस्था की हालत बिगड़ सकती है.

अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी किए जाने के बाद से विभिन्न मंत्रालयों द्वारा कई विकास योजनाओं को पेश किया जा रहा है और कई अवसरों का पता लगाया जा रहा है. मोदी सरकार का मानना है कि इससे रोजगार के अवसर बढ़ेंगे और भारत की मुख्य भूमि से इन दो केंद्र शासित प्रदेशों के सम्पर्क बेहतर होंगे.

ये भी पढ़ें

सेना के कंट्रोल में इमरान खान का ‘नया पाकिस्‍तान’, अमेरिकी रिपोर्ट ने खोली पोल

कश्मीर भारत का अभिन्न अंग, पाकिस्तान ने POK में किए हुए है अवैध कब्जा: राजनाथ सिंह