मोहन भागवत ने कहा – शिक्षा और अमीरी से आता है अहंकार, पढ़े-लिखे परिवारों में होते हैं ज्‍यादा तलाक

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत ने रविवार को कहा कि इन दिनों तलाक के अधिक मामले पढ़े -लिखे परिवारों में सामने आ रहे हैं. मोहन भागवत का कहना है कि शिक्षा और अमीरी अंहकार पैदा कर रहा है, इसकी वजह से परिवार टूट जाता है.

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत ने रविवार को कहा कि इन दिनों तलाक के अधिक मामले पढ़े -लिखे परिवारों में सामने आ रहे हैं. मोहन भागवत का कहना है कि शिक्षा और अमीरी अंहकार पैदा कर रहा है, इसकी वजह से परिवार टूट जाता है. अपने परिजन के साथ कार्यक्रम में आए आरएसएस कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए भागवत ने कहा कि भारत में हिंदू समाज का कोई विकल्प नहीं है.

वहीं, आरएसएस द्वारा जारी बयान में मोहन भागवत ने कहा कि मौजूदा समय में तलाक के मामले बहुत बढ़ गए हैं. लोग निरर्थक मुद्दों पर लड़ रहे हैं. तलाक के मामले शिक्षित और संपन्न परिवारों में अधिक हैं क्योंकि शिक्षा और संपन्नता से अहंकार आता है जिसका नतीजा परिवारों का टूटना है. इससे समाज भी खंडित होता है क्योंकि समाज भी एक परिवार है.

इस दौरान संघ प्रमुख ने कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि स्वयंसेवक अपने परिवार के सदस्यों को संघ की गतिविधि के बारे में बताएंगे क्योंकि कई बार परिवार की महिला सदस्य को हमसे अधिक कठिन कार्य करना पड़ता है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि हम जो काम कर रहे हैं वह कर सके. उन्होंने कहा कि महिलाओं को घर तक ही सीमित करने का नतीजा मौजूदा समाज है जो हम देख रहे हैं.

(पीटीआई इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें – 

BHU: आरएसएस से जुड़ी संस्कृत भारती ने किया फिरोज खान का समर्थन, कही ये बड़ी बात

बीएचयू के प्रोफेसर फिरोज खान के समर्थन में आया आरएसएस

रज्जू भैय्या के नाम पर आर्मी स्कूल खोलेगा आरएसएस, अखिलेश ने उठाए सवाल

Related Posts