CM अरविंद केजरीवाल ने डेंगू की रोकथाम के लिए की अपने घर की चेकिंग

अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने अपने आवास की जांच के बाद कहा, "दिल्ली एक बार फिर डेंगू (Dengue) को हराएगी और इसके लिए आज तीसरे रविवार सुबह 10 बजे मैंने फिर से अपने घर की चेकिंग की और इकट्ठा हुए साफ पानी को बदला."

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने रविवार को अपने आवास की चेकिंग की और लोगों से अपील की कि वे डेंगू (Dengue) की रोकथाम के लिए अपने घर के गमलों में और कहीं भी पानी जमा ना रहने दें. कूलर का पानी नियमित रूप से बदलें. अपने 10 दोस्तों या रिश्तेदारों को भी फोन कर इस अभियान में शामिल करें.

CM केजरीवाल ने रविवार सुबह 10 बजे अपने आवास का निरीक्षण (Inspect) करते हुए कहा, “सभी लोगों के सामूहिक प्रयासों से दिल्ली को पिछले साल की तरह इस बार भी डेंगू को हराने में मदद मिलेगी. पिछले साल इसी सामूहिक प्रयासों की वजह से राजधानी दिल्ली में डेंगू के केस की संख्या में उल्लेखनीय कमी देखी गई थी.”

‘इसी मौसम में तेजी से बढ़ते हैं डेंगू के मामले’

उन्होंने कहा, “अभी हम कोरोनावायरस महामारी (Corona Pandemic) से निपट रहे हैं, लेकिन यही मौसम है, जब दिल्ली में डेंगू के केस काफी बढ़ जाते हैं. हमने इस बार फिर से ’10 हफ्ते, 10 बजे, 10 मिनट, हर रविवार डेंगू पर वार’ अभियान शुरू किया है. यह हमारे डेंगू विरोधी अभियान (Anti-Dengue Campaign) का तीसरा हफ्ता है. पिछले साल, दिल्ली के लोगों ने मिलकर प्रयास किए थे और डेंगू को हराया था.”

‘हर रविवार जरूर करें अपने घर की चेकिंग’

केजरीवाल ने अपने आवास पर जमा पानी की जांच के बाद कहा, “दिल्ली एक बार फिर डेंगू को हराएगी और इसके लिए आज तीसरे रविवार सुबह 10 बजे मैंने फिर से अपने घर की चेकिंग की और इकट्ठा हुए साफ पानी को बदला. आप भी हर रविवार अपने घर की चेकिंग जरूर करें और अपने 10 जानकारों को भी ऐसा करने के लिए कहें. 10 हफ्ते, 10 बजे, 10 मिनट, हर रविवार, डेंगू पर वार.”

‘पिछले साल केवल 2,036 मामले आए थे सामने’

मुख्यमंत्री ने कहा, “पिछले साल दिल्ली के सभी निवासियों, RWA, धार्मिक और सांस्कृतिक संगठनों, मंत्रियों, विधायकों, नेताओं और प्रभावशाली लोगों की बराबर हिस्सेदारी और सहयोग ने शहर में डेंगू के प्रभाव को कम करने में बहुत अहम भूमिका निभाई थी. इस दौरान केवल 2,036 केस सामने आए थे और सिर्फ दो लोगों की मौत हुई थी, जबकि 2015 में 15,867 केस आए थे और करीब 60 लोगों की मौत हुई थी. इस बार डेंगू के खिलाफ यह अभियान 6 सितंबर को शुरू किया गया था.” (IANS)

Related Posts