इस बार कितना अलग था अरविंद केजरीवाल का शपथ ग्रहण, पढ़ें ये 4 प्वाइंट

अरविंद केजरीवाल के शपथ ग्रहण (2020) की तुलना शपथ ग्रहण (2015) से की जाए तो कुछ बदलाव देखने को मिला. इस बार का शपथ ग्रहण इन 4 वजहों से बहुत अलग रहा.

दिल्ली विधानसभा चुनाव में पुर्ण बहुमत से जीत के बाद आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल ने आज तीसरी बार सीएम पद की शपथ ले ली है. वह दिल्ली के तीसरी बार मुख्यमंत्री बन गए हैं. वहीं उनके छह विधायकों ने मंत्री पद की शपथ ली है. जिनमें मनीष सिसोदिया, इमरान हुसैन, गोपाल राय, राजेंद्र गौतम, सत्येंद्र जैन और कैलाश गहलोत शामिल हैं.

अरविंद केजरीवाल के शपथ ग्रहण (2020) की तुलना शपथ ग्रहण (2015) से की जाए तो कुछ बदलाव देखने को मिला. इस बार का शपथ ग्रहण इन 4 वजहों से बहुत अलग रहा.

1. पिछली बार अरविंद केजरीवाल अपनी पूरी कैबिनेट के साथ दिल्ली मैट्रो में आए थे. इस बार सभी अपनी सरकारी गाड़ी से आए.

2. पिछली बार शपथ ग्रहण समारोह के बाद केजरीवाल राजघाट गए थे जहां बापू के समाधि पर जाकर नमन किया था. इस बार शपथ ग्रहण समारोह के बाद सीधा अपने घर गए.

3. पिछली बार शपथ ग्रहण समारोह के बाद अरविंद केजरीवाल अपने मंत्रिमंडल के सदस्यों के साथ दिल्ली सचिवालय गए. इस बार अरविंद सोमवार को कैबिनेट की पहली बैठक करेंगे.

4. पिछली बार अरविंद केजरीवाल ने शपथ ग्रहण समारोह के बाद ”इंसान का इंसान से हो भाईचारा…” गाया था. इस बार उन्होंने ”होंगे कामयाब…” गीत गाया.

ये भी पढ़ें-

अरविंद केजरीवाल की तीसरी बार हुई ताजपोशी, रामलीला मैदान में मंच पर रहे ये स्पेशल-50 गेस्ट

‘हमने अपने विरोधियों को माफ किया, दिल्ली के विकास के लिए PM मोदी का आशीर्वाद चाहता हूं’

Related Posts