1600 करोड़ खर्च करने के बाद भी पहाड़ खोद कर नहीं निकाल सके चूहा : ओवैसी

'भारत के संविधान में धर्म कभी भी नागरिकता का आधार नहीं बन सकता है. जब भी देश की नागरिकता को लेकर कानून बना है, कहीं भी किसी भी धर्म के बारे में नहीं बताया गया है.'
owaisi, 1600 करोड़ खर्च करने के बाद भी पहाड़ खोद कर नहीं निकाल सके चूहा : ओवैसी

असम में नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन (NRC) की लिस्ट सामने आने के बाद से ही राजनीतिक बयानबाजी तेज हो गई है.

AIMIM प्रमुख और हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने हैदराबाद में कहा कि, ‘असम के मंत्री नासमझी की बात न करें. पहले संविधान को समझें. भारत के संविधान में धर्म कभी भी नागरिकता का आधार नहीं बन सकता है. जब भी देश की नागरिकता को लेकर कानून बना है, कहीं भी किसी भी धर्म के बारे में नहीं बताया गया है. जब आपने संविधान की शपथ ली है तो संविधान की अवहेलना मत कीजिये. सरदार वल्लभ भाई पटेल को समझिए.’

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि, ‘सारी दुनिया हम पर उंगली उठा रही है. जनता के दिए हुए टैक्स से 1600 करोड़ खर्च करने के बाद भी, पहाड़ खोद कर चूहा तक नहीं निकाल सके. खुद बीजेपी ही खिलाफ है.’

ओवैसी ने कहा, ‘अमित शाह ने कहा था कि 50 लाख घुसपैठिये हैं, कहां गए वो सारे? उनकी तुलना हिटलर से की. ओवैसी ने कहा कि उनको नागरिकता का कानून पढ़ना चाहिए. भारत की नागरिकता के कानून में धर्म का जिक्र नहीं है, आपलोग इसमें धर्म का जिक्र करके लो.’

बता दें उत्तर प्रदेश के मिर्ज़ापुर में पुलिस ने मिड डे मील में बच्चों को नमक के साथ रोटी खिलाए जाने की ख़बर देने वाले स्थानीय पत्रकार के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज कर लिया है.

इस पर अपना प्रतिक्रिया देते हुए असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि, पत्रकार संघ उनके साथ क्यों नहीं खड़ा है? जो चैनल रात के 9 बजे या दिन रात मुझपर उंगली उठता रहता है, कम से कम थोड़ा पत्रकारिता में एकता दिखाते.

‘सरकार की तरफ से स्टेटमेंट आता है कि उन्होंने फोटो नहीं लेकर वीडियो लिया है, कभी आपलोग के खिलाफ भी मामला दर्ज हो सकता है, आपलोगों को सावधान रहना होगा. देश में लोकतंत्र की धज्जियां उड़ाई जा रही है, जबकि मीडिया को स्वतंत्र रहने का अधिकार है, मीडिया को दबाया जा रहा है और मीडिया का कुछ हिस्सा सत्ताधारी पार्टी का मुखपत्र बन गया है. मीडिया को अपनी शक्ति दिखाना चाहिए, अगर मैं भी कुछ गलत करता हूं तो मुझे भी दिखाओ. ये आपलोगों के लिए परीक्षा की घड़ी है.’

ये भी पढ़ें- ईस्टर्न इकॉनोमिक फोरम में बुलाना सम्मान की बात, रूसी राष्ट्रपति पुतिन से बोले पीएम मोदी

Related Posts