गहलोत सरकार का फरमान, सरकारी स्कूलों से हटाई जाएं वीर सावरकर-दीनदयाल उपाध्याय की तस्वीरें

राजस्थान के सरकारी स्कूलों में अब न तो राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के पूर्व प्रमुख डॉ हेडगेवार की तस्वीरें दिखेंगी और न ही वीर सावरकर की. इतना ही नहीं बीजेपी के आदर्श और जनसंघ के संस्थापक रहे पंडित दीनदयाल उपाध्याय और श्यामा प्रसाद मुखर्जी की तस्वीरें भी स्कूलों से हटेंगी.
Veer Savarkar and Deen dayal Upadhyay, गहलोत सरकार का फरमान, सरकारी स्कूलों से हटाई जाएं वीर सावरकर-दीनदयाल उपाध्याय की तस्वीरें

राजस्थान सरकार के एक फैसले से सियासत में भूचाल आ गया है. यहां अब सरकारी स्कूलों से वीर सावरकर और पंडित दीनदयाल उपाध्याय की तस्वीरें हटाई जाएंगी. गहलोत सरकार ने स्कूलों को फरमान जारी किया कि अगर तस्वीरें नहीं हटाई तो सरकार उन स्कूलों के खिलाफ कार्रवाई भी करेगी.

बीजेपी ने इस पर कड़ी आपत्ति की. बीजेपी ने आरोप लगाया कि गहलोत सरकार महापुरुषों का दलगत आधार पर भेदभाव कर रही है. बीजेपी ने चेताया कि वे ऐसा नहीं होने देंगे.

Veer Savarkar and Deen dayal Upadhyay, गहलोत सरकार का फरमान, सरकारी स्कूलों से हटाई जाएं वीर सावरकर-दीनदयाल उपाध्याय की तस्वीरें

 

राजस्थान के सरकारी स्कूलों में अब न तो राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के पूर्व प्रमुख डॉ हेडगेवार की तस्वीरें दिखेंगी और न ही वीर सावरकर की. इतना ही नहीं बीजेपी के आदर्श और जनसंघ के संस्थापक रहे पंडित दीनदयाल उपाध्याय और श्यामा प्रसाद मुखर्जी की तस्वीरें भी स्कूलों से हटेंगी. राजस्थान की गहलोत सरकार ने तय किया कि इन महापुरुषों में से किसी की भी तस्वीर की स्कूलों में जरुरत नहीं.

Veer Savarkar and Deen dayal Upadhyay, गहलोत सरकार का फरमान, सरकारी स्कूलों से हटाई जाएं वीर सावरकर-दीनदयाल उपाध्याय की तस्वीरें

 

बीजेपी ने गहलोत सरकार के इस फरमान पर कड़ी आपत्ति की. बीजेपी ने आरोप लगाया कि गहलोत सरकार महापुरुषों में दलगत आधार पर भेदभाव कर रही है. राजस्थान के पूर्व शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी ने कहा कि राजस्थान की कांग्रेस सरकार स्कूलों में सिर्फ एक ही परिवार की तस्वीरें लगाना चाहती है. बीजेपी इसे बर्दाश्त नहीं करेगी.

Veer Savarkar and Deen dayal Upadhyay, गहलोत सरकार का फरमान, सरकारी स्कूलों से हटाई जाएं वीर सावरकर-दीनदयाल उपाध्याय की तस्वीरें

 

गहलोत सरकार ने स्कूलों को ये तस्वीरें हटाकर महात्मा गांधी, पंडित जवाहरलाल नेहरु और भीमराव अंबेडकर की तस्वीरें लगाने के लिए कहा. दरअसल इससे पहले बीजेपी शासन में कक्षाओं में पंडित दीनदयाल उपाध्याय से लेकर श्यामा प्रसाद मुखर्जी और वीर सावरकर की तस्वीरें लगाई गई थी. लेकिन कांग्रेस इन्हें बीजेपी का आदर्श मान रही है. कांग्रेस का कहना है कि छात्रों के लिए ये प्रेरणा पुरुष नहीं हैं.

Related Posts