असम में अब तक 85 प्रदर्शनकारी गिरफ्तार, डीजीपी ने कहा- हालात काबू में

डीजीपी ने बताया, 'पत्थरबाजी की घटनाओं, वाहनों को आग लगाने, शासकीय और आम लोगों की संपत्तियों पर हमलों की वीडियोग्राफी की गई है. हम इनमें शामिल लोगों की पहचान कर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेंगे.'

नागरिकता संशोधन के नए कानून (CAA) के खिलाफ आक्रोश में उबल रहा असम का हिंसक आंदोलन शनिवार को कुछ काबू में आता दिखाई दिया. बीते चार दिन से हिंसक हो चुके इस आंदोलन के चलते गुवाहाटी शहर में शनिवार को 7 घंटों के लिए कर्फ्यू हटाया गया. इस दौरान हिंसा की कोई चिंताजनक घटना नहीं हुई.

हमलों की गई वीडियोग्राफी

असम के पुलिस महानिदेशक भास्कर ज्योति महंत ने शनिवार को कहा कि प्रदर्शन के दौरान हिंसक घटनाओं के सिलसिले में अब तक 85 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. डीजीपी ने कहा कि हालात काबू में हैं और हिंसा में शामिल लोगों के खिलाफ पुलिस कड़ी कार्रवाई करेगी.

डीजीपी ने बताया, ‘पत्थरबाजी की घटनाओं, वाहनों को आग लगाने, शासकीय और आम लोगों की संपत्तियों पर हमलों की वीडियोग्राफी की गई है. हम इनमें शामिल लोगों की पहचान कर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेंगे.’

अफवाहों पर से दूर रहने की अपील

डीजीपी ने कहा कि उपद्रव करने के लिये प्रदर्शनों में शामिल होने वाले ‘बुरे तत्वों’ को गिरफ्तार कर लिया गया है. उन्होंने कहा, ‘हिंसा भड़काने में शामिल पाए गए किसी भी व्यक्ति या संगठन के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.’

डीजीपी ने कहा कि पुलिस ने आंदोलन के दौरान संयम से काम लिया और उग्र स्थितियों के दौरान ही कार्रवाई की गई. डीजीपी ने लोगों से अफवाहों पर विश्वास न करने और न फैलाने का आग्रह किया. उन्होंने कहा, “किसी भी अफवाह के सामने आने वाले लोगों को अपने स्थानीय पुलिस स्टेशन को इसके बारे में सूचित करना चाहिए.”

ये भी पढ़ें-

CAB के विरोध में हिंसक प्रदर्शन, सीएम ममता ने कहा- परेशानी पैदा की तो किसी को नहीं बख्शेंगे

पश्चिम बंगाल: नागरिकता संशोधन बिल के विरोध में प्रदर्शनकारियों ने 5 ट्रेनों में लगाई आग