Assam Flood में राहत की खबर: 9 दिनों से मानसून की बारिश नहीं, घट रहा है बाढ़ का पानी

अधिकारियों के मुताबिक, 33 जिलों में से 20 जिलों के 11 लाख लोग बाढ़ (Flood) की चपेट में हैं. इनमें 8.30 लाख लोग राज्य के छह पश्चिमी जिलों- गोलपाड़ा, मोरीगांव, बोंगईगांव, बारपेटा, गोलाघाट, धुबरी और पूर्वी लखीमपुर के हैं.
Assam flood worsen situation, Assam Flood में राहत की खबर: 9 दिनों से मानसून की बारिश नहीं, घट रहा है बाढ़ का पानी

असम के ज्यादातर जिलों में बाढ़ का पानी धीरे-धीरे घटने लगा है. बाढ़ (Flood) के हालात में सुधार है, मगर अब भी 11 लाख लोग प्रभावित हैं. अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी. अधिकारियों के मुताबिक, 33 जिलों में से 20 जिलों के 11 लाख लोग बाढ़ की चपेट में हैं. इनमें 8.30 लाख लोग राज्य के छह पश्चिमी जिलों- गोलपाड़ा, मोरीगांव, बोंगईगांव, बारपेटा, गोलाघाट, धुबरी और पूर्वी लखीमपुर के हैं.

भारत मौसम विज्ञान विभाग के अधिकारियों ने कहा कि पिछले नौ दिनों से मानसून की बारिश नहीं हुई है. इस कारण बाढ़ की स्थिति में सुधार आना तय है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

IANS की रिपोर्ट के मुताबिक प्रभावित जिलों के 75,711 हेक्टेयर खेतों में लगी फसलें अब भी डूबी हुई हैं. पहले, 24 जुलाई को 122,573 हेक्टेयर में लगी फसलें डूब गई थीं.

कांजीरंगा नेशनल पार्क का 55 फीसदी डूबा

एएसडीएमए के अधिकारियों के अनुसार, ब्रह्मपुत्र सहित नौ बड़ी नदियों कई जगहों पर उफना गई हैं. शोणितपुर, जहां ब्रह्मपुत्र और जिया भारती नदियां बहती हैं, दोनों खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं.

वन विभाग के अधिकारियों के मुताबिक, कांजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान का 55 फीसदी हिस्सा डूब गया है. बाढ़ के कारण कम से कम 145 वन्यजीवों की मौत हो चुकी है.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

Related Posts