अगस्ता वेस्टलैंड केस: बिचौलिए सुशेन मोहन गुप्ता की जमानत याचिका खारिज

3600 करोड़ रुपये के अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर सौदा घोटाला मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने बिचौलिए सुशेन मोहन गुप्ता को दिल्ली से गिरफ्तार किया था.

नई दिल्ली: अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर घोटाले से जुड़े मनी लॉड्रिंग केस में बिचौलिए सुशेन मोहन गुप्ता को CBI कोर्ट ने जमानत देने से इंकार कर दिया है. 3600 करोड़ रुपये के अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर सौदा घोटाला मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने बिचौलिए सुशेन मोहन गुप्ता को दिल्ली से गिरफ्तार किया था.

विशेष न्यायाधीश अरविंद कुमार ने जमानत याचिका खारिज कर दी. प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने सुशेन की जमानत याचिका का विरोध किया था. अदालत द्वारा दुबई के कारोबारी और सौदे में कथित बिचौलिए राजीव सक्सेना को मामले में सरकारी गवाह बनने की अनुमति दिए जाने के एक दिन बाद गुप्ता को 26 मार्च को गिरफ्तार किया गया था.

sushen mohan gupta, अगस्ता वेस्टलैंड केस: बिचौलिए सुशेन मोहन गुप्ता की जमानत याचिका खारिज

ED का आरोप है कि खेतान की मिलीभगत से सुशेन ने ‘इंटरस्टेलर टेक्नोलॉजीस’ के खातों में आई रिश्वत की रकम को विभिन्न देशों में स्थित कंपनियों के माध्यम से आगे ट्रांसफर किया था. जांच एजेंसी ने दावा किया कि राजीव सक्सेना ने दो डायरियां, कुछ पन्ने, अन्य दस्तावेज और एक पेन ड्राइव उपलब्ध कराई है जो उसके मुताबिक सुशेन मोहन गुप्ता की हैं.

ये भी पढ़ें- अगस्ता वेस्टलैंड केस: ED की चार्जशीट से खुलासा, AP यानी अहमद पटेल, FAM मतलब फैमिली 

ये भी पढ़ें- कोर्ट में AP का नाम लेने पर क्रिश्चियन मिशेल ने दी ये सफाई

ये भी पढ़ें- मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ईडी ने गौतम खेतान के खिलाफ दाखिल किया आरोपपत्र