मुस्लिम पक्ष ने की थी हिंदू पक्ष से कम सवाल पूछे जाने की शिकायत, CJI ने यूं कर दी दूर

मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने पांच जजों की संविधान पीठ से शिकायत की थी कि हिंदू पक्ष से सवाल कम पूछे जा रहे हैं.

अयोध्‍या भूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में निर्णायक सुनवाई अंतिम दौर में है. 38वें दिन की सुनवाई के दौरान, 14 अक्‍टूबर को मुस्लिम पक्ष ने एक शिकायत की. सीनियर एडवोकेट राजीव धवन ने पांच जजों की संविधान पीठ से कहा, “जज साहब से दूसरे पक्ष से सवाल नहीं किए. सारे सवाल सिर्फ हमसे किए गए. जरूर, हम जवाब दे रहे हैं.” धवन के इस कमेंट का जवाब प्रधान न्‍यायाधीश (CJI) रंजन गोगोई ने 39वें दिन की सुनवाई में अपने ही अंदाज में दिया.

मंगलवार यानी सुनवाई के 39वें दिन हिंदू पक्ष की तरफ से के. परासरन ने जिरह की. इस दौरान CJI गोगोई ने उनके तर्कों पर सवाल किए. कई सवाल पूछने के बाद, CJI ने मुस्लिम पार्टी के वकील राजीव धवन से पुष्टि की- “डॉ धवन, क्या हम हिंदू दलों से पर्याप्त संख्या में सवाल पूछ रहे हैं?”

मुस्लिम पक्ष के सवाल, हिंदू पक्ष के जवाब

परासरन ने कहा कि ‘हिदुओं ने भगवान राम के जन्म स्थान के लिए एक लंबी लड़ाई लड़ी है, हमारी सदियों से आस्था है कि वह भगवान राम का जन्म स्थल है.’ इस पर धवन ने पूछा अयोध्या में कितने मंदिर हैं? परासरन ने जवाब दिया कि उन्होंने जन्मस्थान के महत्व को समझाने के लिए नंबर दिए हैं.

परासरण ने अदालत को हिंदुओं का इतिहास बताते हुए कहा कि “इतिहास में जो भूल हुई उसे सुधारने का वक्त है. किसी भी आक्रमणकारी को इसकी इजाजत नही दी जा सकती कि वह भारतीय इतिहास के गौरव को नष्ट करे.”

अयोध्‍या केस में 39वें दिन की सुनवाई, पढ़ें कोर्टरूम अपडेट्स

ये भी पढ़ें

अयोध्‍या केस: 1935 से पूजा कर रहे थे हौसला प्रसाद त्रिपाठी, मंदिर में थी मूर्ति और फोटो

अयोध्‍या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान आया रेस ज्युडी काटा का जिक्र, जानें ये है क्‍या