Ayodhya case: राजीव धवन की सफाई, CJI बोले- जो करना है करो, तब मैंने नक्शा फाड़ दिया

विकास सिंह के दस्तावेज़ पर राजीव धवन ने आपत्ति जताई और कहा कि सुप्रीम कोर्ट को नए दस्तावेज नहीं स्वीकार करना चाहिए. विकास सिंह ने कहा कि यह दस्तावेज पहले भी कोर्ट के सामने आ चुका है.
Rajeev Dhavan, Ayodhya case: राजीव धवन की सफाई, CJI बोले- जो करना है करो, तब मैंने नक्शा फाड़ दिया

अयोध्या केस में 40वें दिन की सुनवाई के दौरान उस वक़्त माहौल गर्म हो गया, जब मुस्लिम पक्षकार के वकील राजीव धवन ने एक नक्शा कोर्ट रूम में फाड़ दिया.  मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस घटना को लेकर मुख्य न्यायाधीश ने कड़ी आपत्ति ज़ाहिर की. उन्होंने कहा कि अगर सुनवाई के दौरान ऐसे रोक-टोक होगी तो कोर्ट रूम से बाहर चले जाएंगे.

वहीं राजीव धवन का इस मामले में कुछ और ही कहना है. उन्होंने कहा, ‘मैंने कहा था कि मैं इसे फेंक रहा हूं. जिसके बाद चीफ जस्टिस ने कहा कि जो करना है करो. तभी मैंने नक्शा फाड़ दिया. अब वो सोशल मीडिया पर चल रहा है.’

क्या है मामला?

दरअसल हिंदू महासभा का पक्ष रख रहे वकील विकास सिंह ने एक नक़्शा कोर्ट को दिखाया और कहा कि इस नक़्शे में भगवान राम के जन्मस्थान की सही जानकारी है.

विकास सिंह ने कहा कि अभी तक किसी ने कोर्ट के सामने यह नक़्शा पेश नही किया है. धवन ने इसका विरोध करते कहा कि यह बेकार की बातें है इसको कोर्ट को नहीं मानना चाहिए.

जिसके बाद सीजेआई (मुख्य न्यायाधीश) ने वकील धवन पर नाराजगी जताई. उन्होंने कहा- कोर्ट रूम में आप इस तरह की रोक-टोक करेंगे तो सुनना मुश्किल होगा. अगर आप इसे नहीं मानते तो कोई बात नहीं. कोर्ट ने कहा कि विकास सिंह सिर्फ बयान दे रहे हैं धवन.

विकास सिंह के सबमिशन (दस्तावेज़) पर राजीव धवन ने आपत्ति जताई और कहा कि सुप्रीम कोर्ट को नए दस्तावेज नहीं स्वीकार करना चाहिए. विकास सिंह ने कहा कि यह दस्तावेज पहले भी कोर्ट के सामने आ चुका है. धवन ने कहा कि आप बताइए कि कब कोर्ट के सामने यह दस्तावेज आया.

Rajeev Dhavan, Ayodhya case: राजीव धवन की सफाई, CJI बोले- जो करना है करो, तब मैंने नक्शा फाड़ दिया
Ayodhyaa-map

Related Posts