काला जादू कर सुनहरे सपने दिखाने वाला बाबा करोड़ों की चपत लगाकर हुआ फरार

इस बाबा ने नोट दोगुना करने का लालच देकर कई लोगों को मोटा चूना लगाया. पीडितों द्वारा पुलिस में शिकायत देने के बाद राजेश उर्फ कैंडी बाबा अपने गोरखधंधे का खुलासा होने के बाद फरार हो गया.

शाहाबाद: शरीफगढ़ के डेरा वडभाग सिंह के फरार बाबा राजेश उर्फ कैंडी अब भी पुलिस की पकड़ से बाहर है, लेकिन उसके बारे में एक के बाद सनसनीखेज खुलासे होने जारी है। वह लोगों को धोखे के सहारे झूठे चमत्‍कार दिखाकर लोगों को भ्रमित करता था. वह अंगारे से कबूतर निकालने जैसे करतब दिखाकर लोगों को झांसे में ले लेता था. वह लोगों को भूत-प्रेत का भय दिखाकर अपने जाल में फंसाता था.

बता दें कि इस बाबा ने नोट दोगुना करने का लालच देकर कई लोगों को मोटा चूना लगाया. पीडितों द्वारा पुलिस में शिकायत देने के बाद राजेश उर्फ कैंडी बाबा अपने गोरखधंधे का खुलासा होने के बाद फरार हो गया. इसके बाद से पुलिस को उसका कोई सुराग नहीं लगा है. पुलिस उसे दबोचने के लिए अपना पूरा जोर लगा रही है.

पिपली कस्बे के बीच शरीफ गढ़ गांव में बाबा वडभाग सिंह के नाम पर राजेश कैंडी ने लगभग 12 वर्ष पहले अपने ही एक अनुयायी की हवेली पर कब्जा करके डेरा बनाया और हर रविवार मेला व बाबा की चौकी लगानी शुरू की.

जबकि इससे पहले राजेश कैंडी दिल्ली के एक डेरे में कीर्तन में ढोलकी बजाता था शरीफ गढ़ में झाड़-फूंक और ओपरी पराई यानी भूत प्रेत मुक्ति का दावा यहां के लोगों के दिमाग पर इस कदर जमा कि लोग जुड़ते गए और काफिला बनता गया. जिसके चलते पुरानी हवेली को एक आलीशान डेरे का रूप दे दिया गया यही नहीं 3 स्टार सुविधाओं वाले वृद्ध आश्रम के नाम पर भी लोगों से काफी दान जुटाया गया.

बाबा वडभाग सिंह की शक्तियां बताने वाले इस महाठग राज बाबा राजेश केंडी की दुकान इस कदर चली कि यहां बत्ती वाली गाड़ियों और वीआईपी लोगों का हुजूम भी जमा होने लगा. बाद में राजेश कैंडी ने लोगों से नोट दुगने करने, सस्ता सोना बेचने के साथ-साथ लोगों को विदेश भेजने के भी बातें देकर करोड़ों रुपए ऐंठने शुरू किए.

जब लोगों से बात की गई तो उन्होंने बताया कि यहां वीआईपी लोगों का हुजूम लगता था और स्थानीय लोग तो कम आते थे लेकिन बाहरी लोगों को सस्ता सोना बेचने ,विदेश भेजने यानी रातों-रात करोड़पति बनाने की बातें कर लूटा जाता था और भूत प्रेत निकालना तो एक दिखावा मात्र था.

इस बारे में कुरुक्षेत्र के उप पुलिस अधीक्षक अजय राणा ने मामले की पुष्टि करते हुए बताया कि डेरा बाबा वडभाग सिंह के संचालक राजेश कैंडी के खिलाफ कुरुक्षेत्र में तीन मुकदमे दर्ज किए गए हैं जिनमें विदेश भेजने और सोना सस्ता देने के नाम पर ठगी के आरोप है उन्होंने कहा कि मामले की जांच हो रही है और जैसे-जैसे सबूत सामने आएंगे नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने कहा कि अभी फिलहाल आरोपी फरार है जिसकी तलाश के लिए दबिश दी जा रही है.

कैथल की राजेंद्रा सेठ कॉलोनी के विवेक गुप्ता ने कुरुक्षेत्र के थानेसर सिटी में राजेश कैंडी व एजेंट मलकीत सिंह पर केस दर्ज कराया है. आरोप है कि मलकीत ने कैंडी से सस्ता सोना दिलवाने के नाम पर झांसे में लिया. 19 मई 2018 काे कैंडी अपनी पत्नी के साथ अम्बाला नंबर की रेनॉ कार में कुरुक्षेत्र आया. 99 लाख रुपए लेकर कैंडी ने आधा किलो सोना दिया, जो नकली निकला. विवेक ने पुलिस को कैंडी की कार का जो नंबर बताया है, उस पर अम्बाला में स्प्लेंडर प्रो बाइक रजिस्टर्ड है.

पंचकूला के परमिंद्र ने जनवरी में करनाल में कुलतारण निवासी सोनू ढांडा, नरेश ढांडा, मानस निवासी रघुबीर, पाई निवासी जितेंद्र उर्फ काला व राजेश कैंडी व उसकी कथित पत्नी साक्षी पर केस दर्ज कराया. आरोप है कि कैंडी ने 22 लाख रु. किलो सोने का झांसा दे 1.32 करोड़ रु. ठग लिए. एक दिन करनाल में एक मकान पर बुलाया. वहां पहुंचा तो साक्षी मौजूद थी. कैंडी सहित पांचों आरोपी पहुंचे तो साक्षी ने कपड़े फाड़ लिए और चिल्लाने लगी. उसके साथ मारपीट की व रेप केस दर्ज कराने की धमकी दी. आरोपियों ने घटनाक्रम की वीडियो बना ली.