बाबरी विध्वंस मामले की सुनवाई कल, कोर्ट के सामने नहीं पेश होंगे आडवाणी, जोशी

बाबरी ​मस्जिद विध्वंस (Babri Masjid demolition case) केस में कल 30 सितंबर को फैसला आने की उम्मीद है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 4:02 pm, Tue, 29 September 20

बाबरी ​मस्जिद विध्वंस (Babri Masjid demolition case) मामले में कल 30 सितंबर को आखिरी फैसला आने की उम्मीद है. इस मामले विशेष सीबीआई (CBI) की विशेष अदालत कल सुनवाई करेगी. बाबरी ​मस्जिद विध्वंस केस में आरोपी भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी,मुरलीमनोहर जोशी सुनवाई के दौरान कोर्ट में मौजूद नहीं रहेंगे.

बताया गया कि कोरोना महामारी और स्वास्थ्य कारणों के चलते दोनों नेताओं ने लखनऊ नहीं जाने का फैसला लिया. दोनों लोग दिल्ली से ही विडिओकांफ्रेंसिंग के जरिये कोर्ट की कार्यवाही में उपस्थित रह सकते हैं.

बता दें कि सीबीआई ने बाबरी ​मस्जिद विध्वंस मामले में कुल 49 लोगों को आरोपी बनाया था. जिसमें 17 लोगों की मौत हो चुकी है. कल सीबीआई कोर्ट 32 आरोपियों के खिलाफ फैसला सुना सकती है.  इस पूरे मामले में कोर्ट ने लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती समेत 49 लोगों को आरोपी बनाया है.

28 साल पुराने मुकदमे का ये सुनाएंगे फैसला

28 साल पुराने इस मुक़दमे की सुनवाई पर विशेष अदालत फैसला सुनाएगी. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक  स्पेशल जज सुरेंद्र कुमार यादव लखनऊ स्थित विशेष न्यायालय (अयोध्या प्रकरण) के पीठासीन अधिकारी की हैसियत से वे 30 सितंबर को इस मुकदमे का फैसला सुनाएंगे.

पांच साल पहले 5 अगस्त को उन्हें इस मामले में विशेष न्यायाधीश नियुक्त किया गया था. 19 अप्रैल 2017 को सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें मुकदमे में रोजाना ट्रायल कर इस मामले की सुनवाई दो साल में पूरा करने का निर्देश दिया गया था. उल्लेखनीय है कि 6 दिसंबर, 1992 को अयोध्या में कारसेवकों ने विवादित बाबरी मस्जिद का ढांचा​ गिरा दिया था.