जादवपुर यूनिवर्सिटी में बाबुल सुप्रियो के साथ छात्रों ने की बदसलूकी, उपद्रियों ने की आगजनी, VIDEO

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कहा कि बाबुल सुप्रियो का घेराव किया जाना एक गंभीर मुद्दा है. उन्होंने घटना के संबंध में राज्य के मुख्य सचिव को तुरंत कदम उठाने को कहा है.

कोलकाता: अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) ने जादवपुर विश्वविद्यालय में एक सेमिनार आयोजित किया था. सेमीनार को संबोधित करने केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो आए हुए थे. विश्वविद्यालय (Jadavpur University) में छात्रों के एक समूह ने घेराव किया और उन्हें काले झंडे दिखाए. बाबुल सुप्रियो वामपंथी झुकाव वाले संगठनों-आर्ट फैकल्टी स्टूडेंट्स यूनियन (एएफएसयू) और स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया (ASFI) के सदस्यों ने शुरुआत में ‘बाबुल सुप्रियो वापस जाओ’ के नारे लगाते हुए करीब डेढ़ घंटे तक उनको कैंपस में प्रवेश करने से रोका.

शाम पांच बजे परिसर से बाहर निकलते समय भी भाजपा नेता को विरोध प्रदर्शन का सामना करना पड़ा. सूत्रों ने बताया कि वह अभी कैंपस में ही रूके हैं, क्योंकि प्रदर्शनकारी छात्रों ने उनकी कार का रास्ता रोक दिया. भारी सुरक्षा के बीच सेमिनार में शिरकत करने वाले सुप्रियो ने कैंपस में संवाददाताओं से कहा, ‘मैं यहां राजनीति करने नहीं आया हूं. विश्वविद्यालय के कुछ छात्रों के व्यवहार से दुखी हूं, जिस तरह उन्होंने मेरा घेराव किया. उन्होंने मेरे बाल खींचे और मुझे धक्का दिया.’

सूत्रों ने बताया कि घटना के बारे में पता चलने पर विश्वविद्यालय के कुलपति सुरंजन दास ने प्रदर्शनकारी छात्रों से कारण जानने की कोशिश की, लेकिन उन्होंने विश्वविद्यालय के द्वार से हटने से इनकार कर दिया.

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कहा कि बाबुल सुप्रियो का घेराव किया जाना एक गंभीर मुद्दा है. उन्होंने घटना के संबंध में राज्य के मुख्य सचिव को तुरंत कदम उठाने को कहा है. मुख्य सचिव मलय डे ने विश्वविद्यालय के कुलाधिपति राज्यपाल को आश्वस्त किया कि शहर के पुलिस आयुक्त को फौरन मामले पर गौर करने का निर्देश दिया गया है.
बाबुल सुप्रियो पश्चिम बंगाल के आसनसोल से सांसद हैं.

केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने लोकसभा चुनाव-2019 में आसनसोल संसदीय सीट से जीत दर्ज की. उन्होंने टीएमसी प्रत्याशी मुनमुन सेन को करारी शिकस्त दी थी. सुप्रियो ने 2014 में भी आसनसोल से जीत दर्ज की थी. तब बीजेपी को बंगाल में 2 ही सीट मिली थी. बाबुल सुप्रियो फिलहाल मोदी सरकार में पर्यावरण राज्य मंत्री हैं.