‘सड़कों से हटाए जाएं बाबर और औरंगजेब के नाम,’ दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी ने गृह मंत्री को लिखा पत्र

गृह मंत्री अमित शाह को लिखे पत्र में गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने बताया है कि बाबर के शासन के दौरान महिलाओं का बलात्कार किया गया जबकि अन्य धर्मों के लोगों प्रताड़ित भी किया गया.

राजधानी दिल्ली समेत देश के कई इलाकों में मुगल शासकों के नाम पर सड़कें, इमारतें आदि बनी हुई हैं, जिनके नामों समय-समय पर बदले जाने की मांगें भी अक्सर उठती रहती हैं. अब ऐसी ही एक मांग दिल्ली के गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की ओर से की गई है.

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिख कर यह अपील की है. उन्होंने पत्र के जरिए दिल्ली की सड़कों से बाबर और औरंगजेब के नाम से जो भी सड़क हैं उसकी जगह किसी और का नाम रखे जाने की मांग की है.

Babur and Aurangzeb names should be removed from the streets, ‘सड़कों से हटाए जाएं बाबर और औरंगजेब के नाम,’ दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी ने गृह मंत्री को लिखा पत्र

मालूम हो कि पहले भी मुगलों से जुड़े कई स्थानों के नाम बदले जा चुके हैं. उत्तर प्रदेश सरकार ने हाल ही में मुगलसराय रेलवे स्टेशन और इलाहाबाद शहर के नाम बदले हैं. उत्तर प्रदेश के फैजाबाद का नाम भी बदल कर अयोध्या किया गया है. इसी तर्ज पर सिख समुदाय की ओर से ये मांग की गई है. मालूम हो कि औरंगजेब और बाबर को दमनकारी मुगल शासक माना जाता है, जिन्होंने सिख समुदाय के खिलाफ जमकर मार काट मचाई थी.

गृह मंत्री अमित शाह को लिखे पत्र में गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने बताया है कि बाबर के शासन के दौरान महिलाओं का बलात्कार किया गया जबकि अन्य धर्मों के लोगों प्रताड़ित भी किया गया. ऐसे में इन दमनकारी शासकों के नाम सड़कों से हटाने की मांग गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने की है.

ये भी पढ़ें: BJP के सिख वोट बैंक में सेंध लगाने की तैयारी में कांग्रेस! अशोक गहलोत के घर शबद कीर्तन