PAK का F-16 उड़ाने के बाद विंग कमांडर अभिनंदन ने क्‍यों वापस नहीं मोड़ा प्‍लेन?

पाक के कब्‍जे वाले कश्‍मीर में हुई इस हवाई लड़ाई में वॉर-रूम से विंग कमांडर अभिनंदन को वापस लौटने को कहा गया था.

विंग कमांडर अभिनंदन वर्द्धमान ने 27 फरवरी 2019 को पाकिस्‍तान के लड़ाकू विमान F-16 को मार गिराया था. पाक के कब्‍जे वाले कश्‍मीर में हुई इस हवाई लड़ाई में वॉर-रूम से अभिनंदन को वापस लौटने को कहा गया था. हालांकि विंग कमांडर अभिनंदन यह संदेश नहीं सुन पाए क्‍योंकि उनका कम्‍युनिकेशन सिस्‍टम दुश्‍मन ने जाम कर दिया था.

इंडियन एयरफोर्स लंबे समय से एंटी-जैमिंग टेक्‍नोलॉजी की मांग करती रही है. एयरफोर्स और सरकार के अधिकारियों ने हिंदुस्‍तान टाइम्‍स से कहा कि अगर अभिनंदन के मिग-21 बाइसन में एंटी-जैमिंग टेक्‍नोलॉजी होती तो वह बताए जाने पर वापस विमान मोड़ लेते. इससे वह पाकिस्‍तानी लड़ाकू विमानों के चंगुल में फंसने से बच जाते और बंदी न बनाए जाते.

पाक में घुसकर विंग कमांडर अभिनंदन ने उड़ाया था F-16

एयरफोर्स ने बालाकोट (पाकिस्‍तान) में जैश-ए-मोहम्‍मद के ठिकानों पर एरियल स्‍ट्राइक की थी. इसके के जवाब में 27 फरवरी को पाकिस्‍तान एयरफोर्स (PAF) ने लड़ाकू विमान उतार दिए. भारत ने उनका पीछा किया. एक समय ऐसा आया जब IAF ने अपने विमानों को वापस लौटने को कह दिया था. हालांकि विंग कमांडर वर्द्धमान पाकिस्‍तानी विमान के पीछे लगे रहे. उन्‍होंने अमेरिका में बने F-16 को सफलतापूर्वक निशाना बनाया. हालांकि उनका विमान भी क्षतिग्रस्‍त होकर क्रैश हो गया और उन्‍हें बंदी बना लिया गया.

ऐसा पहली बार नहीं, जब एयरफोर्स ने बेहतर कम्‍युनिकेशंस की जरूरत बताई हो. IAF ने पहली बार 2005 में बेहतर कम्‍युनिकेशंस की मांग की थी. एयरफोर्स डेटा लिंक जैसी आधुनिक सुविधा चाहती थी. एक वरिष्‍ठ सरकार अधिकारी ने HT से कहा, “अगर कमियां नहीं होती तो हम विंग कमांडर अभिनंदन को नहीं खोते.”

ये भी पढ़ें

बालाकोट एयरस्ट्राइक के हीरो अभिनंदन को मिलेगा वीर चक्र सम्मान

फिर से मिग-21 उड़ाने के लिए तैयार विंग कमांडर अभिनंदन, पास किए सारे टेस्ट